त्रिपुरा में उपचुनाव के लिए पार्टियां जोरशोंरो से प्रसार प्रचार कर रही है। आरोप प्रत्यारोप की जुबानी जंग जारी है। इसी बीच पुलिस ने कथित तौर पर AICC की महिला सचिव ज़रिथा लाईफांग के साथ दुर्व्यवहार किया है और पश्चिम अगरतला पुलिस स्टेशन के प्रभारी अधिकारी सुब्रत चक्रवर्ती ने उसे धक्का दिया और शरीर के गलत हिस्से पर उसे छू लिया।

उत्तेजित ज़रिथा लाईफांग ने मीडियाकर्मियों को बताया कि पुलिस ने उसके साथ घटिया व्यवहार किया और पश्चिम अगरतला पुलिस थाने के प्रभारी अधिकारी सुब्रत चक्रवर्ती ने उसे शरीर के गलत हिस्से-छाती पर छुआ। उन्होने कहा कि “माता त्रिपुरेश्वरी की भूमि में एक महिला का अपमान उसे स्वीकार्य नहीं होगा; पुलिस को दंड देगी देवी मां; आप सभी को इसका विरोध करना चाहिए क्योंकि आपके परिवार की महिला सदस्यों के साथ भी ऐसा ही हो सकता है "।

कांग्रेस के सूत्रों ने कहा कि राहुल गांधी से ED की पूछताछ के विरोध में यूथ कांग्रेस द्वारा आयोजित एक जुलूस राजभवन की ओर बढ़ गया था। जुलूस को पुलिस ने राज्य सचिवालय के गेट पर रोक दिया था और पूर्व पीसीसी अध्यक्ष गोपाल ने विरोध जारी रखने और राहुल गांधी को परेशान करने में भाजपा की साजिश के खिलाफ सभा को संबोधित किया।


उनके भाषण के बाद जुलूस ने फिर से राजभवन की ओर बढ़ने की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया। एक हाथापाई हुई और पुलिस ने कांग्रेस के जुलूस को रोक दिया, लेकिन हाथापाई में पश्चिम अगरतला थाने के प्रभारी अधिकारी सुब्रत चक्रवर्ती ने कथित तौर पर तजरीथा लैफांग के साथ दुर्व्यवहार किया। बाद में पुलिस ने कहा कि लाइफांग ने एक महिला पुलिस कांस्टेबल को धमकी दी थी, लेकिन कांग्रेस ने आंदोलन के जरिए इस मुद्दे को आगे बढ़ाने का फैसला किया।