रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव 25 मार्च को रेलवे परियोजनाओं का अनावरण करने के लिए त्रिपुरा का दौरा करेंगे। वैष्णव कार्य प्रगति की समीक्षा करने के लिए पश्चिम त्रिपुरा जिले में अगरतला-अखौरा रेलवे लिंक के गलियारे निश्चिंतपुर का दौरा करेंगे। भारत की ओर (5.46 किमी) पहले चरण का लगभग 98 प्रतिशत काम लगभग पूरा हो चुका है, जबकि बांग्लादेश की तरफ (10.60 किमी) काम में तेजी आनी बाकी है।

ये भी पढ़ेंः त्रिपुरा विधानसभा चुनाव 2023 से पहले बीजेपी हो रही मजबूत, CM बिप्लब देब की मौजूदगी में TPF भाजपा में शामिल


परिवहन विभाग के प्रधान सचिव एल डारलोंग ने मंगलवार को कहा, रेल मंत्री 25 मार्च को कुछ रेलवे परियोजनाओं का उद्घाटन करने के लिए राज्य का दौरा करने वाले हैं, लेकिन उनके दौरे का कार्यक्रम अभी तय नहीं हुआ है। हम मंत्रालय से पुष्टि की प्रतीक्षा कर रहे हैं। यात्रा के दौरान वैष्णव गोमती जिले के उदयपुर रेलवे स्टेशन पर आधुनिक माल यार्ड का उद्घाटन करेंगे। पश्चिम त्रिपुरा के जिरानिया रेलवे स्टेशन के बाद यह राज्य का प्रमुख माल यार्ड होगा। वैष्णव राज्य के सबसे दक्षिणी सीमा उप-मंडल सबरूम रेलवे स्टेशन पर देवघर एक्सप्रेस एक्सटेंशन को भी हरी झंडी दिखाएंगे। वर्तमान में देवघर एक्सप्रेस अगरतला तक चलती है।

ये भी पढ़ेंः त्रिपुरा में बन रहा है इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम, 22,000 लोगों के बैठने की क्षमता, जानिए कबतक बनकर होगा तैयार


वहीं दूसरी तरफ त्रिपुरा को एक और बड़ा तोहफा मिलने वाला है। दरअसल त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने कहा था कि जल्द ही अगरतला को फ्लाइट के जरिए बांग्लादेश के ढाका और चटगांव शहरों से जोड़ा जाएगा। अगरतला-ढाका और अगरतला-चटगांव अंतरराष्ट्रीय मार्गों पर सेवाएं अगले छह महीनों के भीतर शुरू होने की उम्मीद है। एक अधिकारी ने कहा कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय (एमओसीए) जल्द ही निविदाएं जारी करेगा, जिसमें निजी एयरलाइंस आमंत्रित किया जायेगा जो इन मार्गों उड़ान संचालित करना चाहते हैं। देब ने एक ट्वीट में कहा कि आखिरकार, अगरतला में एमबीबी हवाईअड्डा अब ढाका और चटगांव के साथ एक अंतरराष्ट्रीय उड़ान सेवा के लिए तैयार है। बांग्लादेश के साथ प्रस्तावित अंतरराष्ट्रीय उड़ान सेवा निश्चित रूप से त्रिपुरा पर्यटन को बढ़ावा देगी और हवाई संपर्क के मामले में राज्य को एक नई ऊंचाई पर ले जाएगी। इससे बांग्लादेश के लोगों को भी विभिन्न तरीकों से लाभ होगा और दोनों देशों के बीच संबंध मजबूत होंगे।