त्रिपुरा की रहने वाली पुहाबी चक्रवर्ती (Puhabi Chakraborti) को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार (Prime Minister's National Children's Award) से सम्मानित किया गया है। पुहाबी भी उन 29 बच्चों में शामिल जिन्हें ये पुरस्कार मिला है। सभी 29 बच्चे गणतंत्र दिवस परेड (republic day parade) में शामिल होंगे। बता दें कि देश के इन 29 बच्चों ने अलग अलग क्षेत्रों में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को पुहाबी सहित सभी बच्चों को ‘ब्लॉकचेन प्रौद्योगिकी’ (Blockchain Technology) का इस्तेमाल करते हुए डिजिटल प्रमाणपत्र (digital certificate) प्रदान किया। साथ ही बच्चों से बात भी की। प्रधानमंत्री ने पुहाबी से भी उनके उपलब्धियों के बारे में जाना। पुहाबी चक्रवर्ती को प्रेरित और बातचीत करते हुए, प्रधान मंत्री ने उनके COVID से संबंधित नवाचार के बारे में पूछा। उन्होंने खिलाड़ियों के लिए अपने फिटनेस ऐप के बारे में भी प्रधानमंत्री को जानकारी दी। प्रधान मंत्री ने अपने प्रयास में स्कूल, दोस्तों और माता-पिता से मिलने वाले समर्थन के बारे में पूछा। मोदी ने उनसे खेल के साथ-साथ ऐप्स विकसित करने के लिए अपने समय को संतुलित करने के तरीके के बारे में पूछा। 

पुहाबी की उपलब्धियों की सराहना करते हुए, त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने ट्वीट किया, "त्रिपुरा के लिए गर्व का क्षण, पुहाबी चक्रवर्ती को माननीय प्रधान मंत्री श्री @narendramodi जी से 'राष्ट्रीय बाल पुरस्कार' प्राप्त हुआ। उन्हें बहुत-बहुत बधाई। माननीय प्रधान मंत्री और केंद्रीय मंत्री श्रीमती @smritiirani का बहुत-बहुत आभार। युवा पुहाबी COVID-19 रोगियों की मदद करने के लिए नवाचार कर रहे हैं। नवाचार के क्षेत्र में राष्ट्रीय बाल पुरस्कार जीतने पर उन्हें बधाई।'

बता दें कि पुहाबी ने किकबॉक्सर के रूप में वाको इंटरनेशनल किकबॉक्सिंग चैंपियनशिप में भारत के लिए 2 स्वर्ण और 1 कांस्य पदक जीता था। इसने उन्हें एआई आधारित एप्लिकेशन 'एथलीटएक्स: - आत्मानिभर एथलीट' के लिए एक ऐप विकसित करने के लिए प्रेरित किया, जो एथलीटों को चोटों का सही पता लगाने के लिए चोट का पता लगाने वाले स्कैन करके शारीरिक और मानसिक रूप से बेहतर प्रदर्शन करता है और डीप लर्निंग, एआई, आर्टिफिशियल- का उपयोग करके मेंटल हेल्थ स्कैनिंग करता है।

उनकी परियोजना वर्ष 2021 के लिए युवा कार्यक्रम के लिए इंटेल एआई के शीर्ष 20 विजेताओं में से एक थी। पुहाबी वर्तमान में प्रो. फरहामंद के निर्देश में एसएसयू, कैलिफोर्निया यूएसए से इंटर्न कर रही हैं, जहां वह एक स्पाइरोमीटर को नियंत्रित करने के लिए सॉफ्टवेयर विकसित कर रही हैं जो COVID रोगियों को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन और गैस मिश्रण प्रदान करने में मदद करता है और सांस लेने में उनकी कठिनाई को कम करता है। वह बफ़ेलो विश्वविद्यालय, न्यूयॉर्क, यूएसए में भी इंटर्न हैं और प्रो. ज़िमिंग झाओ के अंडर मशीन लर्निंग आधारित साइबर सुरक्षा पर काम कर रही हैं।

 

त्रिपुरा की लड़की, पुहाबी ने 13 साल की उम्र में 'केले के तने के फिल्टर के माध्यम से क्षारीय जल शोधन के लिए उपकरण' के लिए अपना पहला पेटेंट करवाया था और अपने देश और उसके लोगों की बेहतरी के लिए कई और प्रणालियों का आविष्कार करने की उम्मीद करती है। पुहाबी का शौक कराटे और खाली समय में वैज्ञानिक पत्र पढ़ना है। 

पुहाबी को पैसे दान करना पसंद है और वह अपनी पुरस्कार राशि का 50% बाल शक्ति पुरस्कार से पीएम केयर्स फंड में देगी। पुहाबी सीवी रमन जैसे भारतीय नोबेल पुरस्कार विजेता और एसएन बोस जैसे भौतिक विज्ञानी से प्रेरित हैं और भविष्य में भौतिकी में नोबल पुरस्कार जीतने की उम्मीद करती हैं। वह एक प्रोफेसर बनना चाहती हैं ताकि वह युवा पीढ़ी को विज्ञान की अच्छी शिक्षा दे सके।