पश्चिम बंगाल में चुनाव के दौरान बीजेपी और ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी के बीच छिड़ी जुबानी जंग अब त्रिपुरा तक जा पहुंची है। पिछले दिनों अपने भतीजे अभिषेक बनर्जी के काफिले पर त्रिपुरा में हुए हमले के लिए टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी ने अमित शाह को जिम्मेदार बताया है। ममता बनर्जी ने कहा कि होम मिनिस्टर अमित शाह के इशारे पर यह हमला हुआ था। वही इस घटना के पीछे हैं। कोलकाता में सोमवार को त्रिपुरा में हुई घटना में घायल टीएमसी कार्यकर्ताओं से मुलाकात के दौरान ममता बनर्जी ने कहा, 'त्रिपुरा, असम और यूपी समेत जहां भी बीजेपी को सत्ता मिली है, वहां अराजकता का शासन है। हम अभिषेक बनर्जी और पार्टी के कार्यकर्ताओं पर त्रिपुरा में हुए हमले की निंदा करते हैं।'

ममता बनर्जी ने कहा कि इस हमले में सुदीप और जया घायल हो गए। वे छात्र हैं और त्रिपुरा गए थे। उनके सिर पर चोटें आई हैं। दुख की बात यह है कि ये हमले उस वक्त हुए, जब पुलिस वहां मौजूद थी। इसके बाद भी कोई मेडिकल सुविधा नहीं दी गई। इसकी बजाय उन्हें ही गिरफ्तार कर लिया गया और एक गिलास पानी भी नहीं दिया गया। ममता बनर्जी ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि इन हिंसक घटनाओं के बाद भी मैं पीछे नहीं हटूंगी। ममता बनर्जी ने कहा कि बीजेपी जहां भी सत्ता में है, वहां दिनदहाड़े टीएमसी के कार्यकर्ताओं पर हमले किए जा रहे हैं। इसके बाद भी पुलिस और प्रशासन की ओर से कोई एक्शन नहीं लिया जा रहा है।

बंगाल की सीएम ने कहा, 'इस तरह के हमले केंद्रीय गृह मंत्री के सक्रिय समर्थन के बिना नहीं किए जा सकते। वही इन हमलों के पीछे हैं, जो त्रिपुरा पुलिस की मौजूदगी में हुए और वह मूकदर्शक बनी रही। त्रिपुरा के सीएम की इतनी क्षमता नहीं है कि वे इस तरह के हमले करवा सकें।' ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक के काफिले पर त्रिपुरा की राजधानी अगरतला में लाठी-डंडों से लैस कुछ लोगों ने हमला बोल दिया था। टीएमसी का आरोप है कि ये लोग बीजेपी के कार्यकर्ता थे। अभिषेक बनर्जी राज्य में 2023 में होने वाले विधानसभा चुनावों के मद्देनजर तैयारियों के लिए अगरतला पहुंचे थे। इस दौरान अभिषेक बनर्जी ने राज्य के टीएमसी कार्यकर्ताओं से मुलाकात की और पार्टी के विस्तार की योजना पर बात की।