अगरतला: पूर्वोत्तर परिषद (एनईसी) ने त्रिपुरा में एक चाय बागान के आधुनिकीकरण के लिए 2.03 करोड़ रुपये की राशि मंजूर की है। पश्चिम त्रिपुरा जिले में ब्रह्मकुंड चाय बागान के आधुनिकीकरण के लिए राशि स्वीकृत की गई है। यह जानकारी त्रिपुरा चाय विकास निगम (टीटीडीसी) के अध्यक्ष संतोष साहा ने दी।

यह भी पढ़े : Horoscope 28 April 2022: इन राशि वालों को आज ऐसे काम करने से बचना चाहिए , जानिए आज का राशिफल


साहा ने बताया, "एनईसी ने ब्रह्मकुंड चाय बागान के आधुनिकीकरण के लिए 2.03 करोड़ रुपए मंजूर किए हैं।" विशेष रूप से त्रिपुरा सरकार ने ब्रह्मकुंड और दुर्गाबाड़ी चाय बागान के आधुनिकीकरण के लिए एनईसी को प्रस्ताव भेजे थे। त्रिपुरा सरकार ने दुर्गाबाड़ी चाय बागान में एक चाय संग्रहालय स्थापित करने का भी प्रस्ताव रखा है।

यह भी पढ़े : Shukra Gochar 2022: 27 अप्रैल को मीन राशि में प्रवेश करेंगे शुक्र, जानें सभी 12 राशियों पर असर


तीन प्रस्तावों में से एनईसी ने ब्रह्मकुंड चाय एस्टेट के आधुनिकीकरण के लिए 2.03 करोड़ रुपये मंजूर किए जबकि "एनईसी अन्य दो परियोजनाओं पर विचार कर रहा है"। टीटीडीसी के अध्यक्ष संतोष साहा ने कहा, "हम दो अन्य प्रस्तावों के लिए मंजूरी हासिल करने के लिए एनईसी के प्रतिनिधियों के संपर्क में हैं।"

यह भी पढ़े : Love Horoscope 28 April : ये राशि वाले आज कर दें अपने प्यार का इजहार, इनकी अपने किसी खास से होगी मुलाकात


त्रिपुरा कम से कम 54 बड़े चाय बागानों और 2755 छोटे चाय उत्पादकों के साथ भारत में चाय उत्पादक राज्यों में से एक है। त्रिपुरा में सालाना करीब 100 लाख किलो चाय का उत्पादन होता है।