देवियों के पूजा करने वाले दिनों में यानी की नवरात्रे के षष्ठी के दिन त्रिपुरा एक पति ने अपनी ही पत्नी की हत्या कर मौत के घाट उतार दिया है। यह घटना त्रिपुरा के गोमती जिले के उदयपुर सब-डिवीजन के तपनिया की है। मृतिका 28 वर्षीय झरना घोष है। मृतक महिला के परिवार वालों ने आरोप लगाया है कि उसके पति रूपक घोष ने धारदार हथियार किया जिससे झरना की मौत हो गई।


मृतक झरना के पिता ने आरोप लगाया कि मृतक का पति (रूपक घोष) अक्सर मेरी बेटी को प्रताड़ित करता था और मारने से पहले की रात मे भी झरना को रूपक ने बहुत ही बुरे तरीके पीटा था। झरना ने पीटाई के बाद में अपने पिता को फोन पर बुलाया और उसे मारपीट के बारे में सूचित किया। झारना के पिता उसे देखने के लिए अपनी बेटी के ससुराल गए। पीड़ित के पिता ने कहा कि वह अपनी बेटी को घर ले जाना चाहते हैं।


झरना को ले जाने की बात पर पति रूपक ने यह कहते हुए झरना और उसके पिता को रोक दिया कि वह कल अपने घर जा सकते हैं। ये सब हो जाने के बाद रूपक ने एक धारदार हथियार के साथ झारना पर हमला किया। गंभीर रूप से घायल झरना को तपनिया अस्पताल ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। उदयपुर के उप-विभागीय पुलिस अधिकारी (एसडीपीओ) ध्रुव रंजन नाथ ने घटनास्थल पर पहुंचकर जांच शुरू की।