नई दिल्ली/अगरतला। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) ने तृणमूल कांग्रेस के सांसदों के प्रतिनिधिमंडल (Delegation of Trinamool Congress MPs) से त्रिपुरा में हुई राजनीतिक हिंसा (political violence) की घटनाओं के मामले में संज्ञान लेने का आश्वासन दिया है। 

तृणमूल सांसदो के एक प्रतिनिधिमंडल (Delegation of Trinamool Congress MPs) ने सोमवार को शाह के साथ त्रिपुरा में हो रही राजनीतिक हिंसा और तृणमूल की युवा नेता सयानी घोष की गिरफ्तारी के मुद्दे पर उनसे मुलाकात की और इसपर संज्ञान लेने के लिए उन्हें ज्ञापन सौंपा। 

तृणमूल सांसद कल्याण बनर्जी (Trinamool MP Kalyan Banerjee) ने शाह से मुलाकात के बाद संवाददाताओं से कहा कि शाह ने उन्हें बताया कि उन्होंने त्रिपुरा के मुख्यमंत्री विप्लव कुमार देव (Tripura Chief Minister Biplab Kumar Deb) से रविवार को बात कर राजनीतिक हिंसा की घटनाओं की जानकारी मांगी है। बनर्जी ने कहा तृणमूल की नेता घोष पर पुलिस की बर्बरता और उनकी गिरफ्तारी के मामले पर भी शाह ने मुख्यमंत्री देव से रिपोर्ट मांगी है। 

तृणमूल सांसद सौगत रॉय (Trinamool MP Saugata Roy) ने कहा, 'हमने गृह मंत्री को विस्तार से बताया कि कैसे हमारे नेताओं और कार्यकर्ताओं पर त्रिपुरा में निगम चुनाव के दौरान राजनीतिक विद्वेष के चलते हमले हो रहे हैं और उन्हें गिरफ्तार किया जा रहा है। शाह ने हिंसा की घटनाओं को रोकने का आश्वासन दिया है।' 

इससे पहले सुबह तृणमूल के 16 सांसदों ने त्रिपुरा हिंसा और सुश्री घोष पर पुलिस की कथित बर्बरता और गिरफ्तारी के विरोधस्वरूप यहां गृह मंत्रालय के बाहर धरना दिया। तृणमूल सांसदों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और शाह के खिलाफ नारेबाजी भी की थी और शाह से मिलने का समय मांगा था। तृणमूल के नेता रॉय ने कहा, 'हम चाहते हैं कि गृह मंत्री हमारी बात सुनें। त्रिपुरा में हो रही ङ्क्षहसा के लिए शाह और मोदी दोनों को जवाब देना चाहिए।' 

रॉय ने त्रिपुरा में तृणमूल की युवा नेता घोष की गिरफ्तारी की निंदा करते हुए आरोप लगाया, 'भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) शासित त्रिपुरा में अव्यवस्था और अराजक स्थिति है। भाजपा सरकार की ओर राज्य में हो रहे निगम चुनावों के दौरान राजनीतिक विद्वेष की भावना से विरोधी दलों के नेताओ और कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया जा रहा है।' 

उल्लेखनीय है कि त्रिपुरा पुलिस ने रविवार को घोष को हत्या के प्रयास के आरोप में गिरफ्तार किया था। घोष पर शनिवार रात राज्य के मुख्यमंत्री देव (CM Deb) की एक बैठक को कथित रूप से बाधित करने का आरोप लगा है। घोष की गिरफ्तारी के बाद से भाजपा और तृणमूल के बीच तकरार लगातार जारी है। तृणमूल आरोप लगा रही है कि भाजपा निगम चुनाव के दौरान त्रिपुरा में उनके बड़े नेताओं की रैली नहीं होने दे रही है।