भारत-बांग्लादेश जलमार्ग परियोजना के एक हिस्से का संचालन शुरू करने के लिये त्रिपुरा के सिपाहीजला जिले में गोमती नदी पर एक घाट (जेटी) का निर्माण पूरा हो गया है। अधिकारियों ने बुधवार को इसकी जानकारी दी। 

यह घाट सोनमुरा को बांग्लादेश के दाउदकंडी के बीच जलमार्ग सम्पर्क में मदद करेगा। इनके बीच महज 80 किलोमीटर की दूरी है। अभी जहाज और स्टीमर पश्चिम बंगाल के हल्दिया से दाउदकंडी तक जाते हैं, जो लंबा रास्ता है। 

सोनमुरा के सब-डिवीजनल मजिस्ट्रेट सुब्रत मजुमदार ने पीटीआई-भाषा से कहा, "सोनमुरा में तैरने वाला घाट 12 टन माल संभाल सकता है। अब यह परिचालन के लिये तैयार है।" इसे पुणे स्थित एक कंपनी द्वारा तैयार किया गया है। 

लोक निर्माण विभाग अब घाट तक पहुंचने वाली सड़क का निर्माण कर रहा है, जो अगले महीने तक पूरा हो जाएगा। त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार कुमार देब ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट में कहा, हमारे पास वाराणसी से सोनमुरा के लिये एक जलमार्ग होगा। यह हमारे लिए एक ऐतिहासिक मील का पत्थर है।

इस घाट को तीन सप्ताह में पूरा किया गया है। भारत में कहीं भी ऐसा अस्थायी घाट नहीं है, जिसे तीन सप्ताह में तैयार किया गया हो।