त्रिपुरा राज्य में बारादोवली और कृष्णानगर समेत त्रिपुरा विधानसभा की चार खाली सीटों पर उपचुनाव अब होगा या नहीं, यह तो दिल्ली में केंद्रीय चुनाव आयोग की 12 और 13 मई को होने वाली बैठक के बाद पता चलेगा। राज्य के एक सूत्र के मुताबिक मुख्य चुनाव आयुक्त कार्यालय, स्टेट चीफ इलेक्शन कमिश्नर किरण गिट्टे को भी 12 और 13 को बैठक में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया है।


यह भी पढ़ें- अमित शाह ने ममता बनर्जी पर किया तीखा वार, हिमंता बिस्वा की तारीफों के बांधे पुल


रिपोर्टों के अनुसार, राज्य विधानसभा की चार रिक्त सीटों के लिए उपचुनाव 4 जुलाई 2022 को या उससे पहले होना है। लेकिन भारत के चुनाव आयोग (ECI) ने अभी तक उपचुनाव पर अपने निर्णय की घोषणा नहीं की है।  राज्य चुनाव आयुक्त कार्यालय के एक सूत्र के अनुसार, यदि किसी विधानसभा सीट पर कोई रिक्ति होती है, तो अगले छह महीनों के भीतर वोट लेने की प्रथा है। लेकिन इसके लिए कोई स्पष्ट नियम या नीतियां नहीं हैं।

यह भी पढ़ें- असम में BJP को चुनौती देने के लिए TMC बना रही है तगड़ी रणनीति, आज 1000 नेता तृणमूल कांग्रेस में होंगे शामिल


12 और 13 मई को दिल्ली में भारत निर्वाचन आयोग (ECI) की बैठक के बाद ही मिल सकता है, क्या राज्य विधानसभा की चार खाली सीटों पर उपचुनाव होंगे। हालांकि आज इस बारे में पूछे जाने पर राज्य की मुख्य चुनाव अधिकारी किरण गीते ने स्पष्ट किया कि राज्य विधानसभा की चार खाली सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए राज्य चुनाव आयोग पूरी तरह से तैयार है।


यह भी पढ़ें- अगरतला रेलवे स्टेशन से 3 रोहिंग्या गिरफ्तार, बांग्लादेश सरकार दे रही इसे बढ़ावा

वैसे, राज्य की अगली विधानसभा का मतदान चरण फरवरी 2023 तक पूरा होना है। लेकिन उससे पहले ऐसी अफवाहें हैं कि राज्य में अगला विधानसभा वोट निर्धारित तिथि से पहले हो सकता है। हालांकि राजनीतिक जानकारों के मुताबिक राज्य में विधानसभा में जल्द वोट का मुद्दा कुछ हद तक राज्य सरकार और सत्ताधारी पार्टी की राजनीतिक इच्छाशक्ति पर निर्भर करता है।