पूरे देश में आज ईद-उल-फितर मनाई जा रही है। कल ईद के चांद का दिदार हुआ था। कोरोना के कहर के बीच और लॉकडाउन में ना तो इस ईद में गले मिले ना ही मिठाई बांटी हैं। इस ईद-उल-फितर को त्रिपुरा में भी लॉकडाउन प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए मनाया गया। लॉकडाउन मानदंडों के मुताबिक मस्जिदों में ईद नमाज के लिए केवल 5 व्यक्तियों को अनुमति दी गई थी।


त्रिपुरा में भी इस नियम का कोई उल्लंघन नहीं हुआ। ज्यादातर लोगों ने राज्य के कई मुस्लिम निकायों द्वारा की गई अपील के अनुपालन किया है। सबसे बड़े संघ त्रिपुरा राज्य जामियात उलेमा हिंद ने भी राज्य के मंत्री रतन लाल नाथ की अध्यक्षता में सरकार और मुस्लिम निकायों के बीच हुई बैठक में लोगों से ईद के दौरान रहने की अपील की है।


बैठक के बाद एसडीएम ने रविवार को स्थानीय धार्मिक नेताओं से मुलाकात की और उनसे अपने घरों में ईद नमाज की पेशकश की। उन्होंने कहा कि इस साल की ईद नमाज अपने घरों में ही करेंगे। हमारा उद्देश्य किसी भी कीमत पर कोरोना वायरस के प्रसार को रोकना है। ईद अगले साल भी आएगी।