त्रिपुरा के पूर्व मुख्यमंत्री और विपक्ष के नेता माणिक सरकार (Manik Sarkar) ने मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब (Biplab Kumar deb) से अन्य राज्यों से त्रिपुरा स्टेट राइफल्स (टीएसआर) (Tripura State Rifles) कर्मियों को वापस लाने की मांग की। सीपीआईएम पोलित ब्यूरो के सदस्य माणिक सरकार ने देब को लिख पत्र में कहा कि टीएसआर जवानों को वापस बुलाने से सशस्त्र विद्रोह से लडऩे और त्रिपुरा में कानून व्यवस्था स्थापित करने में काफी मदद मिलेगी।

माणिक सरकार (Manik Sarkar) ने इस बात को स्वीकार किया कि राज्य के बाहर टीएसआर (TSR) के इंडिया रिजर्व या आईआर बटालियन को थोड़े समय के लिए तैनात करने के प्रावधान हैं। सरकार ने कहा कि टीएसआर जवानों के एक वर्ग को राज्य के बाहर लंबी अवधि के लिए ड्यूटी पर भेजा जा रहा है, जिससे हताशा पैदा हो रही है और ये अर्धसैनिक बल के जवानों के मनोबल को प्रभावित कर रही है।

उन्होंने  (Manik Sarkar) कहा कि यह पाया गया है कि टीएसआर (TSR) जवानों के लिए भोजन, आवास और अन्य आवश्यक सुविधाएं उन राज्यों में नहीं दी जाती हैं, जहां उन्हें ड्यूटी पर भेजा जाता है। ऐसे में जवानों को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है, उनका मनोबल प्रभावित हो रहा है और वे हताशा का सामना कर रहे हैं। यह त्रिपुरा के लिए अवांछित और हानिकारक है। सरकार ने मुख्यमंत्री देब (biplab kumar deb) से राज्य के हित में टीएसआर जवानों को वापस लाने और जवानों के अधिकारों की रक्षा करने का आग्रह किया। सरकार ने सीएम से भविष्य में भी राज्य के बाहर लंबे समय तक तैनाती पर टीएसआर जवानों को नहीं भेजने की अपील की।