अगरतला : त्रिपुरा की एकमात्र राज्यसभा सीट के लिए 22 सितंबर को होने वाले चुनाव में बीजेपी उम्मीदवार की जीत लगभग तय है, लेकिन मुख्य विपक्षी दल माकपा राज्य के पूर्व वित्त और सूचना मंत्री भानु लाल साहा को चुनाव के लिए नामित करेगी.

यह भी पढ़े : एशिया कप 2022 :  आज टीम इंडिया के लिए करो या मरो का मुकाबला, हारे तो एशिया कप से बाहर


खबरों के मुताबिक साहा जिन्होंने 31 मार्च को राज्यसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवार माणिक साहा के खिलाफ चुनाव लड़ा था। एक बार फिर वाम मोर्चा के उम्मीदवार होंगे।

डेंटल सर्जन से नेता बने माणिक साहा जो बिप्लब कुमार देब के इस्तीफा देने के एक दिन बाद 15 मई को मुख्यमंत्री बने और 23 जून को उपचुनाव में विधानसभा के लिए चुने गए ने 4 जुलाई को राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया। 

यह भी पढ़े :  Numerology Horoscope 6 September : आज का दिन इन बर्थडेट वालों के लिए भाग्यशाली रहेगा , धन लाभ के योग 


माणिक साहा को भाजपा के केंद्रीय नेताओं ने रविवार को अन्य मुद्दों के साथ पार्टी के राज्यसभा उम्मीदवार को अंतिम रूप देने के लिए तलब किया था। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राजीव भट्टाचार्जी ने कहा कि राज्यसभा चुनाव के लिए पार्टी के उम्मीदवार की घोषणा एक या दो दिन में कर दी जाएगी।

सत्तारूढ़ भाजपा (36) के साथ उसके सहयोगी - इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (8) - के पास 60 सदस्यीय सदन में 44 की ताकत है।  जबकि विपक्षी माकपा के पास 15 विधायक हैं।

यह भी पढ़े :  लव राशिफल 6 सितंबर: इन राशि वालों की लव लाइफ में आने वाला है बेहद खास मोड़, सोच समझकर निर्णय लें 


पार्टी सूत्रों के अनुसार कांग्रेस के एकमात्र विधायक सुदीप रॉय बर्मन राज्यसभा चुनावों में माकपा के नेतृत्व वाले वाम मोर्चा के उम्मीदवार का समर्थन करने की संभावना है। चुनाव आयोग ने सोमवार को 22 सितंबर को होने वाले चुनावों के लिए सोमवार को वैधानिक अधिसूचना जारी की और उसी दिन मतगणना की जाएगी।