त्रिपुरा में पिछले 24 घंटों के दौरान दो अलग-अलग राजनीतिक झड़पों में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और विपक्षी कांग्रेस दोनों के कम से कम 30 लोग घायल हो गए, जबकि माकपा पार्टी के एक कार्यालय में तोड़फोड़ की गई, जिससे राज्य भर में तनाव फैल गया। 

ये भी पढ़ेंः जेल ले जाते समय रेप का आरोपी हुआ फरार, अंतरराष्ट्रीय सीमा पर अलर्ट जारी


माकपा ने शनिवार को शहर में विपक्षी दलों पर हिंसा की बढ़ती घटनाओं, गोमती जिले के उदयपुर के मिर्जा में पार्टी के कार्यालय में तोड़फो़ड़ और पिछले तीन दिनों में कम से कम पांच सीपीआई (एम) नेताओं पर हमले के विरोध में एक रैली की। 

ये भी पढ़ेंः मुख्यमंत्री माणिक साहा ने ड्रोन प्रौद्योगिकी केंद्र का किया अनावरण


भाजपा के कथित कुशासन, किसानों के विरोध की बरसी पर आम लोगों पर अत्याचार और आठ अन्य मांगों के खिलाफ रैली की मेजबानी करने वाली पार्टी ने राजभवन तक मार्च किया। हालांकि, इसे वीआईपी रोड पर रोका गया जहां माकपा नेताओं ने सभा को संबोधित किया और लोगों से भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार को हटाने का आह्वान किया।