CPI-M के दिग्गज नेता और त्रिपुरा के पूर्व मुख्यमंत्री माणिक सरकार (Manik Sarkar) ने 21 जनवरी को राज्य के स्थापना दिवस के भाषणों को लेकर आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा कि त्रिपुरा के लोगों का अपमान कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

माणिक सरकार (Manik Sarkar) ने कहा कि पीएम मोदी और अमित शाह ने अपने भाषणों में केवल राज्य के तत्कालीन राजाओं के शासन की प्रशंसा की। सरकार (Manik Sarkar) ने कहा कि पीएम और गृह मंत्री दोनों त्रिपुरा में लोकतांत्रिक आंदोलनों की भूमिका को उजागर करने में विफल रहे।
माणिक सरकार ने अगरतला में मीडिया से कहा कि "प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) ने राज्य में लोकतांत्रिक आंदोलनों का जिक्र नहीं करके त्रिपुरा के लोगों का अपमान किया है।" त्रिपुरा के पूर्व सीएम ने राज्य में राजनीतिक हिंसा का मुद्दा भी उठाया।
उन्होंने आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ भाजपा विपक्ष की आवाज को दबाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा: "2018 में भाजपा के सत्ता में आने के बाद से, कई CPI-M कार्यकर्ताओं की" हत्या कर दी गई, घायल कर दिया गया और उनके घरों में आग लगा दी गई। यह तानाशाही है।