तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) की युवा शाखा की प्रमुख सायोनी घोष (Saayoni Ghosh), जिन्हें त्रिपुरा पुलिस ने हत्या के प्रयास और दंगा भड़काने के इरादे से उकसाने के आरोप में गिरफ्तार किया था, को त्रिपुरा की एक अदालत ने जमानत दे दी है।
घोष को जमानत देते हुए, पश्चिम त्रिपुरा जिले के अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सौम्या विकास दास (Soumya Bikash Das) ने उन्हें उनके खिलाफ दर्ज मामले में पुलिस जांच में सहयोग करने का निर्देश दिया। जानकारी दे दें कि पुलिस ने सायोनी घोष (Saayoni Ghosh) की दो दिन की हिरासत के लिए अदालत से आग्रह किया था, लेकिन उनकी याचिका खारिज कर दी गई थी।
बचाव पक्ष के वकील शंकर लोध (lawyer Shankar Lodh) ने कहा कि अदालत को पुलिस के दावे का समर्थन करने के लिए उचित सबूत नहीं मिले और न ही उसे घोष की गिरफ्तारी के लिए पर्याप्त कारण मिले। लोध ने अदालत परिसर में मीडिया से कहा कि "20,000 रुपये के बॉन्ड और जमानत के आधार पर अदालत ने घोष को जमानत दे दी है।"