त्रिपुरा में विधानसभा चुनावों की तारीखों के एलान के कुछ घंटों बाद मजलिसपुर विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस की बाइक रैली पर पथराव हुआ था जिसमें कई नेता और कार्यकर्ता घायल हो गए थे, अब इस घटना को लेकर चुनाव आयोग ने गुरुवार को हमले की जांच के आदेश दिए हैं। कांग्रेस के पार्टी प्रभारी अजय कुमार पर एक बाइक रैली के दौरान हुए हमले के मद्देनजर पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल ने महासचिव कुमारी शैलजा के नेतृत्व में बृहस्पतिवार को चुनाव आयोग से मुलाकात की थी और त्रिपुरा में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के उपाय करने और हमले में शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी।

फिल्मों, ओटीटी के लिए शंकराचार्य ने बनाया धर्म सेंसर बोर्ड : जारी हुई गाइडलाइंस

इस बीच, त्रिपुरा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) ने कहा, भारत के चुनाव आयोग ने घटना की जांच के आदेश दिए हैं। मामले की रिपोर्ट शुक्रवार दोपहर तीन बजे तक पेश की जानी है। पश्चिम त्रिपुरा जिले के जिरानिया सब-डिवीजन में 18 जनवरी को हिंसा की घटनाएं सामने आई थीं। प्रदेश की 60 सदस्यीय विधानसभा के चुनाव 16 फरवरी को होंगे और मतगणना दो मार्च को होगी। कांग्रेस ने बुधवार को दावा किया था कि पश्चिम त्रिपुरा जिले के जिरानिया सब-डिवीजन में चार स्थानों पर एक बाइक रैली के दौरान भाजपा के लोगों ने कथित तौर पर हमला किया था, जिसमें एआईसीसी महासचिव अजय कुमार सहित 15 पार्टी कार्यकर्ता और पदाधिकारी घायल हो गए। हालांकि पुलिस ने कहा कि पश्चिम त्रिपुरा जिले में अज्ञात बदमाशों द्वारा हमले किए गए थे और इसमें 10 पार्टी कार्यकर्ता घायल हो गए।

आयोग ने सीईओ के कार्यालय को मुख्य सचिव के माध्यम से डीजीपी त्रिपुरा से एक रिपोर्ट प्राप्त करने और 20 जनवरी को दोपहर 3 बजे तक जमा करने को कहा। उन्होंने कहा कि मैं जांच रिपोर्ट मिलने के तुरंत बाद चुनाव आयोग को भेजूंगा। यह घटना बुधवार को त्रिपुरा विधानसभा चुनाव कार्यक्रम की घोषणा के कुछ घंटे बाद हुई थी। माकपा और कांग्रेस आगामी विधानसभा चुनाव से पहले ''लोकतांत्रिक और धर्मनिरपेक्ष'' के तहत संविधान बचाने और त्रिपुरा में लोकतंत्र बहाल करने के लिए 21 जनवरी को एक रैली आयोजित करने वाली हैं। सीपीआई (एम) के राज्य सचिव जितेंद्र चौधरी और कांग्रेस विधायक सुदीप रॉय बर्मन ने गुरुवार को एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जो लोग रैली में शामिल होंगे, वे किसी भी राजनीतिक दल के झंडे नहीं ले जाएंगे।

लड़कियों से बात करने में कांपते हैं हाथ-पैर तो नहीं घबराएं, ये 5 तरीके तुरंत बना देंगे बात

कार्यक्रम के प्रतिभागियों का एक प्रतिनिधिमंडल त्रिपुरा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी गिट्टे किरणकुमार दिनकरराव को एक प्रतिनिधित्व प्रस्तुत करेगा। रॉय बर्मन ने कहा कि त्रिपुरा में संविधान को बचाने और लोकतंत्र को बहाल करने की इच्छा रखने वाले लोग रवींद्र भवन के सामने मेगा कार्यक्रम में शामिल होंगे और किसी भी राजनीतिक दल के झंडे नहीं उठाएंगे। वे राष्ट्रीय ध्वज थामेंगे।