त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने अगरतला रेलवे स्टेशन से पूर्वोत्तर से पहली किसान रेल ट्रेन को हरी झंडी दिखाई। ट्रेन 8,990 किलो अनानास दिल्ली के आदर्शनगर और 1,145 किलो अनानास और कटहल गुवाहाटी ले जा रही थी। भारतीय रेलवे ने पिछले साल अगस्त में देश में दूध, मांस और मछली सहित खराब होने वाले सामानों और कृषि उत्पादों के परिवहन के लिए "किसान रेल" चलाना शुरू किया है।

इससे किसानों को एक व्यापक बाजार प्रदान किया जा सके और उन्हें अपनी आय बढ़ाने में सक्षम बनाया जा सकें। ट्रेन को हरी झंडी दिखाने के बाद कहा कि “किसान रेल के उद्घाटन के साथ, कृषि उत्पादों की परिवहन लागत अब काफी हद तक कम हो जाएगी। पहले इन उत्पादों को हवाई मार्ग से भेजने की परिवहन लागत 20 से 50 रुपये प्रति किलो थी। अब, यह दिल्ली के लिए 2.25 रुपये प्रति किलोग्राम और गुवाहाटी के लिए 88 पैसे पर आ जाएगा ”।मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में केवल अनानास और कटहल महामारी के कारण भेजे गए हैं। देब ने कहा कि “लेकिन, धान, नींबू, काजू, ड्रैगन फ्रूट और कश्मीरी सेब बेर भी राज्य में पैदा होते हैं और उनकी लोकप्रियता भी बाहर अच्छी है। इसलिए अगली बार ऐसी उपज के निर्यात पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। सरकार किसानों की आय को दोगुना करने के लिए प्रतिबद्ध है  ”।  मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र का उद्देश्य प्राथमिक क्षेत्रों में और अधिक विकास सुनिश्चित करना है और किसान रेल की शुरुआत इसका एक उदाहरण है।