त्रिपुरा मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने बांग्लादेश के व्यापारियों या निवेशकों से राज्य सरकार द्वारा दिए गए प्रोत्साहन का लाभ उठाकर भारत के इस पूर्वोत्तर राज्य में निवेश करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि बांग्लादेश के उद्योगपतियों को इस अवसर का उपयोग करना चाहिए क्योंकि त्रिपुरा एक नया आईटी हब बनने के लिए सभी आवश्यकताओं को पूरा कर रहा है और अंततः दोनों क्षेत्रों के फलने-फूलने में मदद कर रहा है।

अगरतला शहर के एक निजी होटल में आयोजित डिजिटल बांग्लादेश IT Business Summit—2022  को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, "भारत और बांग्लादेश के जाने-माने उद्योगपति और व्यवसायी सूचना और प्रौद्योगिकी (आईटी) के क्षेत्र में अपना व्यवसाय बढ़ाने के लिए यहां बैठे हैं "।
देब ने जानकारी देते हुए बताया कि त्रिपुरा में आईटी क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए, राज्य सरकार प्राथमिकता के आधार पर काम कर रही है। बैंकिंग जैसे बांग्लादेश सेवा क्षेत्रों को मजबूत करने में, पड़ोसी देश यहां डेटा केंद्रों के लिए निवेश कर सकता है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा निवेशकों को बिजली में 50 प्रतिशत छूट, जीएसटी में पांच साल की छूट, व्यावसायिक उपयोग के लिए बिजली की कीमतों में कमी और बिजली की 24 घंटे निर्बाध आपूर्ति जैसी कई छूट दी गई हैं।


देब ने कहा, "एक अमेरिकी-आधारित कंपनी ने यहां आईटी भवन में अपना प्रारंभिक कार्य शुरू कर दिया है और त्रिपुरा सरकार का आईटी विभाग सभी रसद मामलों को देख रहा है।" त्रिपुरा में चटगांव के साथ हाई-स्पीड इंटरनेट गेटवे है। उन्होंने कहा कि कारोबार सुगमता सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकार की ओर से सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं।

देब अपनी योजनाओं को गिनाया कि-


-हमारे पास भारत के प्रमुख शहरों को जोड़ने वाली वायुमार्ग कनेक्टिविटी है।

-बांग्लादेश के लोग एमबीबी एयरपोर्ट अगरतला से दिल्ली के लिए फ्लाइट में सवार हो रहे हैं।

-हमारे पास देश भर में ट्रेन कनेक्टिविटी है।

-किसान ट्रेनें राष्ट्रीय बाजारों में रियायती कीमतों पर राज्य के उत्पादों को ले जा रही हैं।

-रेलवे कनेक्टिविटी को बैंगलोर, कोलकाता, दिल्ली, देवघर तक बढ़ा दिया गया है।
-जम्मू एक्सप्रेस ने परीक्षण के आधार पर ट्रेन चलाने के लिए सहमति व्यक्त की है।