जल्द ही त्रिपुरा मंत्रिमंडल का विस्तार होने की संभावना है। राज्य में 2023 के विधानसभा चुनावों पर नजर रखते हुए, भाजपा के नेतृत्व वाली त्रिपुरा सरकार मंत्रिमंडल में और सदस्यों को शामिल करने के लिए पूरी तरह तैयार है। नए मंत्री उन खाली विभागों को भरेंगे जो त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब 2019 से संभाल रहे हैं। त्रिपुरा बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि भगवा पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने कैबिनेट में फेरबदल और विस्तार के लिए हरी झंडी दे दी है।


त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब, हाल ही में, नई दिल्ली में थे, जहां उन्होंने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी सहित कई शीर्ष केंद्रीय भाजपा नेताओं से मुलाकात की और राज्य में संभावित कैबिनेट फेरबदल और विस्तार पर चर्चा की। त्रिपुरा बीजेपी के सूत्रों ने नॉर्थईस्ट नाउ को बताया, "ऐसा लगता है कि कैबिनेट में फेरबदल और विस्तार की घोषणा जल्द ही की जाएगी।" सूत्रों ने यह भी पुष्टि की कि राज्य में 2023 के विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखते हुए नए मंत्रिमंडल का गठन किया जाएगा, क्योंकि मंत्रिमंडल में "विभिन्न जातियों और समुदायों के नेताओं को अवसर दिया जाएगा"।

वर्तमान में, त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब के पास चार अतिरिक्त विभाग हैं। जबकि, उनमें से तीन खाली पड़े हैं, जब से भाजपा-आईपीएफटी गठबंधन ने 2018 में राज्य में सरकार बनाई थी। दूसरी ओर, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग 2019 से खाली पड़ा है, जब सीएम देब ने भाजपा के वरिष्ठ विधायक सुदीप रॉय बर्मन को कैबिनेट से निकाल दिया था। सूत्रों की माने तो हाल ही में बीजेपी के केंद्रीय नेताओं के त्रिपुरा दौरे के दौरान सुदीप रॉय बर्मन को कैबिनेट मंत्री पद की पेशकश की गई थी। बर्मन ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया।