बिदुपुर थाने के गोखुलपुर बाजितपुर गांव के बीएसएफ जवान की मृत्यु इलाज के क्रम में बीती रात्रि रविवार को रुबन हॉस्पिटल पटना में हो गई। मृतक सीमा सुरक्षा बल में त्रिपुरा 86 बटालियन में अधिकारी के पद पर पोस्टेड थे। घटना के बाद घर में कोहराम मचा हुआ है। सोमवार को मृतक का शव हजारीबाग ट्रेनिंग कैम्प के अधिकारी और जवान के द्वारा पटना से घर लाया गया जहां गार्ड ऑफ ऑनर के बाद स्थानीय घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया।

मिली जानकारी के अनुसार गोखुलपुर गांव के स्व सत्यनारायण सिंह के बड़े पुत्र अखिलेश कुमार सिंह जो सीमा सुरक्षा बल में त्रिपुरा में पोस्टेड थे गम्भीर बीमारी को लेकर उनका पटना में बीते एक माह से इलाज चल रहा था। जिनकी मौत रविवार देर रात्रि को हो गई। उनकी मृत्यु के बाद मेरु कैम्प हजारीबाग के अवर निरीक्षक ए के श्रीवास्तव सहित पन्द्रह जवान के द्वारा शव को पटना से लाया गया जहां गार्ड ऑफ ऑनर के बाद उनकी अंतिम संस्कार की गई।

मृतक बीएसएफ के अवर निरीक्षक अखिलेश कुमार सिंह के दिवंगत पिता सत्यनारायण सिंह और उनके दो छोटे भाई मुकेश सिंह एवम पवन सिंह भी बीएसएफ में ही देश सेवा में है। दोनों भाई अभी घर पर अखिलेश सिंह की इलाज को लेकर घर पर छुट्टी लेकर आये हुए थे।

अखिलेश सिंह को चार पुत्री और दो बेटे है। एक बेटे को छोड़ बाकी सबकी घर गृहस्थी बस गई है। पत्नी कामनी सिंह सहित सभी घर के लोग में घटना को लेकर कोहराम मची हुई है। बिदुपुर के प्रभारी थानाध्यक्ष परशुराम सिंह सहित सैकड़ों ग्रामीणों के बीच उनका अंतिम संस्कार स्थानीय खलासा घाट पर किया गया।