मुख्यमंत्री माणिक साहा ने दावा किया है कि त्रिपुरा में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों में बीजेपी सत्ता में वापसी करेगी और सुशासन के दम पर पिछली बार की तुलना में ज्यादा सीटें लेकर आएगी। पश्चिम त्रिपुरा के सूर्यमणिनगर में पार्टी की एक रैली को संबोधित करते हुए साहा ने कहा कि 95-96 प्रतिशत लाभार्थी केंद्र और राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ प्राप्त कर रहे हैं।

त्रिपुरा: छंटनी किए गए शिक्षकों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक करेंगे CM माणिक साहा


उन्होंने कहा कि हाल ही में हमने जनप्रतिनिधियों और लोगों के बीच की खाई को पाटने के लिए 'अमर सरकार' पोर्टल लॉन्च किया। इस पोर्टल पर कोई भी व्यक्ति उस सड़क का विवरण अपलोड कर सकता है जिसकी मरम्मत की आवश्यकता है और यह 10 दिनों में किया जाएगा। विपक्ष पर निशाना साधते हुए साहा ने कहा कि एनसीआरबी के आंकड़े 2018 के बाद से अपराधों में भारी गिरावट का संकेत देते हैं।

त्रिपुरा राजनीतिक संघर्ष: 2 नवंबर के विशालगढ़ बम विस्फोट मामले में मुख्य आरोपी गिरफ्तार


उन्होंने दावा किया कि त्रिपुरा गांजा और अन्य नशीले पदार्थों को जब्त करने और नष्ट करने के मामले में दूसरे नंबर पर है। यह दर्शाता है कि सरकार ने सभी प्रकार के अपराधों के प्रति जीरो टॉलरेंस अपनाई है। बेरोजगारी पर विपक्ष की आलोचना को खारिज करते हुए उन्होंने कहा कि हाल ही में शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) के माध्यम से 3,000 से अधिक शिक्षकों की भर्ती की गई है। उन्होंने कहा, लोग अब नहीं चाहते कि कम्युनिस्ट फिर से राज्य पर शासन करें क्योंकि उन्होंने पंडित दीनदयाल उपाध्याय की भगवा विचारधारा को अपना लिया है। भाजपा ने 2018 के चुनावों में 60 सदस्यीय विधानसभा में 36 सीटें जीतकर त्रिपुरा की सीपीआई (एम) के नेतृत्व वाली वाम मोर्चा सरकार को हरा दिया था। राज्य में अगले चुनाव 2023 की शुरुआत में होने हैं।