पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी (BJP) और टीएमसी (TMC) में टकराव जारी है। इस बीच सोमवार को बंगाल बीजेपी को झटका लगा है। बीजेपी के विष्णुपुर के विधायक तन्मय घोष सोमवार को टीएमसी में शामिल हो गये। वह चुनाव के पहले टीएमसी छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए थे। बता दें कि विधानसभा चुनाव के बाद टीएमसी लगातार दूसरी पार्टी के नेताओं को पार्टी में शामिल करवा रही हैं। रविवार को ही कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष  सौमेन मित्रा की पत्नी शिखा मित्रा और पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की साली शुभ्रा घोष टीएमसी में शामिल हुई थीं।

इस अवसर पर टीएमसी नेता ब्रात्य बसु ने कहा कि बंगाल के लोग दिल्ली और गुजरात से नियंत्रण की कोशिश नहीं मान रहे हैं। वह बीजेपी नेताओं से आह्वान कर रहे हैं कि वे अपना मुंह खोलें। बीजेपी प्रतिहिंसामूलक राजनीति कर रही है और टीएमसी को बदनाम करने की कोशिश कर रही है। इसके खिलाफ तन्मय घोष ने इसके खिलाफ प्रतिवाद किया है और आगे भी जारी रहेगा। इस अवसर पर ब्रात्य बसु ने त्रिपुरा को लेकर बीजेपी पर निशाना साधा।

त्रिपुरा के संबंध में ब्रात्य बसु ने कहा कि जिस दिन ममता बनर्जी त्रिपुरा जाएंगी, वहां सुनामी आएगा। उन्होंने कहा कि त्रिपुरा में बीजेपी गैर लोकतांत्रिक तरीके से काम कर रही है। फरवरी 2023 में त्रिपुरा में चुनाव है। जिस दिन ममता बनर्जी वहां जाएंगी, देखें वहां क्या होता है? त्रिपुरा में टीएमसी कार्यकर्ताओं पर हमला किया जा रहा है। उन्हें होटल में रहने नहीं दिया जा रहा है। जान से मारने की धमकी दी जा रही है। यहां गुजरात, नागपुर से बीजेपी नेता आये थे, लेकिन किसी को धमकी नहीं दी गई थी। वहां आतंक का शासन चल रहा है।

इस अवसर पर तन्मय घोष ने कहा कि वह बंगाल के विकास में सभी को शामिल होने का आह्वान कर रहे हैं। ममता बनर्जी के नेतृत्व में सभी दल के लोग आए। वह सभी से आह्वान कर रहे हैं कि विकास में शामिल हो। सभी मिलकर बंगाल का विकास करें और ममता बनर्जी का हाथ सख्त करें। उन्होंने कहा कि बंगाल में विकास की धारा बह रही है। दुआरे सरकार योजना के तहत जिस तरह से राज्य का विकास हो रहा है कि सभी इसमें शामिल हो। बीजेपी जिस तरह से प्रतिशोधात्मक राजनीति कर रहे हैं और जनतांत्रिक अधिकार में हस्तक्षेप कर रहे हैं। उसके खिलाफ यह विरोध प्रदर्शन है।