त्रिपुरा पुलिस ने पश्चिम त्रिपुरा के सिपाहीजला जिले के तकारजला में एक घर से नेशनल लिबरेशन फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (एनएलएफटी) के चार उग्रवादियों को हथियारों तथा महत्वपूर्ण दस्तावेजों के साथ गिरफ्तार कर लिया। 

त्रिपुरा पुलिस की एक टीम ने खुफिया सूचना के आधार पर अगरतला से 40 किलोमीटर दक्षिण पूर्व में तकारजला स्थित अच्चीराम भगत के घर पर छापेमारी की और चार उग्रवादियों को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार उग्रवादियों की पहचान लाल तंगा रियांग (38), जीबन रियांग (38), गंगाराम रियांग (35) और सिंगमुनी रियांग (36) के रूप में की गयी है। तलाशी के दौरान पुलिस ने गिरफ्तार लोगों के पास से नौ एमएम की एक पिस्तौल और 17 गोलियां, प्रतिबंधित एनएलएफटी (विश्व मोहन गुट) की कई सदस्यता पर्ची तथा कुछ अन्य दस्तावेज भी बरामद किए। 

पुलिस हालांकि गिरफ्तार लोगों की पहचान तथा अच्चीराम से उनके संबंध के बारे में विस्तार से जानकारी नहीं दे सकी है। पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार लोगों को पूछताछ के लिए अगरतला लाया जा रहा है। अब तक इस बात का खुलासा हुआ है कि गिरफ्तार उग्रवादियों को बंगलादेश के चटगांव पहाड़ी पर प्रशिक्षण दिया गया था और वे सभी त्रिपुरा की पूर्वी सीमा को पार कर यहां पहुंचे थे। 

राज्य पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, जैसे ही वे भारतीय क्षेत्र में पहुंचे, हमारे लोगों ने एक सप्ताह के लिए उनकी गतिविधियों तथा आवाजाही पर नजर रखी। हमें पता चला कि एनएलएफटी ने गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर त्रिपुरा जनजातीय क्षेत्र स्वायत्त जिला परिषद (एडीसी) मुख्यालय के आसपास मिश्रित आबादी वाले क्षेत्रों में कुछ अभियान चलाने की योजना बनाई है। उनकी कार्ययोजना और उनकी संख्या की पुष्टि के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। राज्य में पिछले तीन सप्ताह के दौरान एनएलएफटी के सात उग्रवादियों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि चार अन्य ने हथियारों के साथ पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया है।