त्रिपुरा कैबिनेट में मंगलवार को तीन नए चेहरों- राम प्रसाद पॉल, सुशांत चौधरी और भगवान चंद्र दास को शामिल किया गया। मार्च 2018 में विधानसभा चुनावों में वाम दलों को हराने के बाद भाजपा-आईपीएफटी गठबंधन के सत्ता में आने के बाद मंगलवार को त्रिपुरा कैबिनेट में अपने पहले विस्तार में इन नेताओं को शामिल किया गया है। राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य ने राजभवन में एक समारोह में पॉल, चौधरी और दास को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई, जहां मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब के साथ ही त्रिपुरा से केंद्रीय मंत्री प्रतिमा भौमिक और चार केंद्रीय भाजपा नेताओं सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे।

त्रिपुरा के पूर्व भाजपा-उपाध्यक्ष पॉल (55) और 42 वर्षीय विधायक चौधरी पश्चिमी त्रिपुरा से पहली बार 2018 के चुनावों में विधानसभा के लिए चुने गए थे। दास भगवा पार्टी के उत्तरी त्रिपुरा के नेता हैं जो पहली बार विधानसभा के लिए चुने गए हैं। 47 वर्षीय दास के मंत्रिमंडल में शामिल होने के साथ, अनुसूचित जाति (एससी) समुदाय से संबंधित मंत्री पद की लंबे समय से प्रतीक्षित मांग पूरी हुई है।पार्टी के एक शीर्ष नेता ने मंगलवार को आईएएनएस को बताया, ‘‘जो भाजपा विधायक कैबिनेट में शामिल नहीं हैं, वे 31 सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों और निगमों के अध्यक्ष होंगे।’’ त्रिपुरा में सत्तारूढ़ भाजपा विधायकों और नेताओं के एक वर्ग की खुली नाराजगी के बीच मंगलवार दोपहर मंत्रिमंडल विस्तार हुआ, जबकि असंतुष्ट विधायकों और भाजपा नेताओं ने शपथ ग्रहण समारोह का बहिष्कार किया।

शपथ ग्रहण समारोह में विपक्षी वाम दलों और कांग्रेस के नेता भी शामिल नहीं हुए। भाजपा नेता ने नाम बताने से इनकार करते हुए कहा कि त्रिपुरा में 2023 के विधानसभा चुनाव को देखते हुए, भारतीय जनता पार्टी शासन को और सक्रिय कर रही है। 9 मार्च, 2018 को भाजपा-आईपीएफटी (इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा) सरकार के सत्ता संभालने के बाद से, तीन मंत्री पद खाली पड़े थे और मई 2019 में पूर्व स्वास्थ्य और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री सुदीप रॉय बर्मन को मुख्यमंत्री के साथ मतभेदों के बाद बर्खास्त कर दिया गया था और मंत्रालय में रिक्तियां बढकऱ चार हो गईं थीं। 2019 के बाद से सत्तारूढ़ भाजपा विधायकों और नेताओं के एक वर्ग के असंतोष के बीच, केंद्रीय पार्टी के चार वरिष्ठ नेता आंतरिक विवादों को शांत करने और सरकार और संगठन दोनों में कमियों को दूर करने के लिए एक सप्ताह के दौरे के लिए सोमवार को राज्य में पहुंचे थे।

भाजपा के त्रिपुरा के मुख्य प्रवक्ता सुब्रत चक्रवर्ती ने कहा कि पार्टी के पूर्वोत्तर क्षेत्रीय सचिव, अजय जामवाल के नेतृत्व में केंद्रीय नेता मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब, राज्य अध्यक्ष माणिक साहा, सभी मंत्रियों, विधायकों, राज्य तथा जिला नेताओं से मुलाकात करेंगे और पार्टी संगठन के शासन और कामकाज के बारे में उनके विचार प्राप्त करेंगे। टीम में भारतीय जनता पार्टी के अन्य नेता राष्ट्रीय महासचिव दिलीप सैकिया, त्रिपुरा-असम के प्रभारी महासचिव फणींद्रनाथ शर्मा और राज्य के केंद्रीय पर्यवेक्षक विनोद सोनकर हैं। चक्रवर्ती ने आईएएनएस को बताया, केंद्रीय पार्टी के नेता जमीनी स्तर के नेताओं और कार्यकतार्ओं से मिलने के लिए कुछ जिलों और उपमंडलों का भी दौरा करेंगे। भाजपा के पांच असंतुष्ट विधायकों और रविवार को यहां जिले और राज्य के पूर्व नेताओं की बैठक के एक दिन बाद केंद्रीय टीम राज्य के दौरे पर पहुंची थी। पांच विधायक सुदीप रॉय बर्मन, आशीष कुमार साहा, दीबा चंद्र हरंगखाल, आशीष दास और बरबा मोहन त्रिपुरा हैं। पूर्व स्वास्थ्य और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री, बर्मन ने आईएएनएस को बताया कि बैठक में उन्होंने सभी आठ जिलों के जिला और स्थानीय नेताओं के विचार और सुझाव प्राप्त किए और इन पर आने वाले केंद्रीय नेताओं को सूचित किया जाएगा। 

कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए नेता ने कहा, सरकार और पार्टी संगठनों के नेता जिले और जमीनी स्तर के नेताओं की राय, शिकायतों और सुझावों को सुनने के इच्छुक नहीं हैं। इसलिए सम्मेलन आयोजित किया गया था। यह भाजपा के खिलाफ या तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने के लिए नहीं है। एक अन्य बागी विधायक आशीष कुमार साहा ने कहा, ‘‘हमारे शामिल होने के साथ, 2016 में हजारों पार्टी (तृणमूल और कांग्रेस) कार्यकर्ताओं के साथ, भाजपा को एक बड़ी राजनीतिक ताकत मिली, जिससे 25 साल बाद वाम दलों को हराकर सत्ता में आने में मदद मिली।’’ साहा ने कहा, पार्टी के लोगों और कार्यकर्ताओं के सामने कई समस्याएं और मुद्दे हैं। हम चाहते हैं कि सरकार और पार्टी सभी की राय और प्रस्तावों को महत्व दें।