प्रदेश कांग्रेस ने आज यहां भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए त्रिपुरा के वरिष्ठ नेताओं सुदीप रॉय बर्मन और आशीष कुमार साहा का स्वागत किया। बर्मन और साहा इसी सप्ताह की शुरुआत में दिल्ली में कांग्रेस में शामिल हुए थे। दोनों नेताओं के प्रदेश अध्यक्ष बिरजीत सिन्हा और एआईसीसी प्रभारी डॉ अजय कुमार के साथ यहां पहुंचने पर एमबीबी हवाई अड्डे पर बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया। 

कांग्रेस भवन के सामने सभा को संबोधित करते हुए बर्मन ने मुख्यमंत्री बिप्लव कुमार देब और भाजपा के केंद्रीय नेताओं पर तीखा हमला किया और कहा कि उन्हें 25 साल पुराने कम्युनिस्ट शासन को समाप्त करने के लिए 2018 के विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा में शामिल होना पड़ा, लेकिन जैसा कि पिछले दो चुनावों में कांग्रेस वाम मोर्चा सरकार को सत्ता से बेदखल नहीं कर पायी। 

उन्होंने कहा, राज्य में भाजपा सरकार की स्थापना हुई और देब मुख्यमंत्री बने क्योंकि कांग्रेस समर्थकों ने हमारे पार्टी में शामिल होने के बाद उन्हें वोट दिया था। हमें त्रिपुरा में जन-समर्थक, लोकतांत्रिक और कल्याणकारी सरकार स्थापित करने के लिए भाजपा में शामिल होना पड़ा, लेकिन देब ने अपने चार साल के शासन में लोगों के लिए सभी सपनों को एक बुरे सपने में बदल दिया और हम कांग्रेस में लौट आए। उन्होंने आरोप लगाया कि त्रिपुरा एक व्यक्ति की तानाशाही का सामना कर रहा है, जो वाम मोर्चे के ढाई दशक के लंबे शासन से भी बदतर है।