पूर्वोत्तर राज्य त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब (Biplab Kumar) ने घोषणा करते हुए कहा कि उनकी सरकार महान गायिका लता मंगेशकर के नाम पर एक सांस्कृतिक पुरस्कार (cultural award) की शुरुआत करेगी। महान गायिका लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) को श्रद्धांजलि देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इस संबंध में सांस्कृतिक मामलों से विभाग से भी चर्चा की जाएगी। 

उन्होंने कहा, निश्चित रूप से किसी भी ठोस निर्णय से पहले इस मामले पर उचित मंचों के साथ-साथ राज्य मंत्रिमंडल में भी चर्चा की जाएगी, क्योंकि गायक के साथ एक जन भावना जुड़ी हुई है। अपने बचपन की यादों को याद करते हुए उन्होंने कहा, मैं लता जी और किशोर कुमार (Kishor Kumar) के क्लासिक युगल गीत सुनकर बड़ा हुआ हूं। इन गानों को या तो एसडी बर्मन ने कंपोज किया था या आरडी बर्मन ने। उन्होंने कहा, लता जी स्वयं संगीत की एक संस्था थीं। बता दें कि वयोवृद्ध गायिका लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) का रविवार को 92 वर्ष की आयु में निधन हो गया। उन्हें इस साल जनवरी की शुरुआत में शहर के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इस दौरान वे कोरोना (Corona) से संक्रमित थी। वहीं जांच में नमोनिया की भी पुष्टि हुई थी। 

लता मंगेशकर को हल्के लक्षणों के साथ आईसीयू में भर्ती कराया गया था और वह धीरे-धीरे ठीक हो रही थी। कई दिनों तक अस्पताल में रहने के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई और उनकी तबीयत फिर से बिगड़ गई और उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) बॉलीवुड की प्रमुख महिलाओं में से एक थीं। उन्हें मेलोडी की रानी और भारत की कोकिला के रूप में माना जाता था। उन्होंने कई भाषाओं जैसे हिंदी, बंगाली, मराठी और कई अन्य क्षेत्रीय भाषाओं में गाने गाए थे। उन्हें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, पद्म भूषण (1969), महाराट्र भूषण (1997), भारत रत्न (2001) और कई अन्य पुरस्कारों से सम्मानित किया गया था।