कुत्ता वफादार जानवरों में से एक माना जाता है। आज के समय में कुत्ते पालने का चलन तेजी से बढ़ गया है। लगभग हर घर में कुत्ते पाले जाने लगे है। कुत्ते से जुड़ी कई बातों को तो आप जानते ही होंगे लेकिन क्या आपको पता है कि आखिर कुत्ते की पूंछ क्यों काटी जाती है। आपने कई बार देखा होगा कि कई कुत्तों की पूंछ कटी होती है। क्या आपको पता है कि कुत्ते की पूंछ क्यों कटी होती है। नहीं न तो आज हम आपको बताते है कि कुत्तों की पूंछ क्यों काटी जाती है।

ये भी पढ़ेंः अब यूपी के 'बुलडोजर बाबा' का सरकारी वकीलों पर टूटा कहर, एक झटके में लिया इतना बड़ा एक्शन

कुत्तों के लिए उनकी पूंछ उनके लिए बेहद जरूरी होती है। क्योंकि कुत्ते पूंछ हिलाकर कुत्तों और इंसानों से संवाद करते है। लेकिन बिना पूंछ वाले कुत्ते संवाद नहीं कर पाते है। कुत्ते अपनी पूंछ का इस्तेमाल दौड़ते समय संतुलन बनाये रखने के लिए करते है। इतना ही नहीं तैरते समय भी कुत्ते पूंछ से संतुलन बानते है। कुत्तों की पूंछ काटने के पीछे कई कारण बताए गए है जैसे कुत्तों की पीठ को मजबूत करने, उनकी गति बढ़ाने, और चोट लगने से बचाने के लिए कुते की पूंछ काटा जाता था। लेकिन आज के समय में कुत्तों को खूबसूरत दिखने के लिए उनकी पूंछ काटी जाती है। वही गार्ड कुत्तों के मामले की बात करे तो, कोई हमलावर उनकी पूंछ को पकड़ कर नहीं खींचे, उन्हें नुकसान नहीं पहुंचाए इसलिए उनकी पूंछ काट दी जाती है।

प्राचीन रोम में कुत्तों की पूंछ काट दी जाती थी क्योंकि लोगो मानना था कि पूंछ काटने से रेबीज का खतरा कम हो जाता है। हालांकि वैज्ञनिक का कहना है कि रेबीज का कुत्तों की पूंछ से कोई संबंध नही है। इसके अलावा जो शिकारी कुतों होते है उनकी पूंछ उन्हें चोट से बचाने के लिए काटी जाती थी, क्योंकि दौड़ते समय पूंछ हिलने से उन्हें चोट लग सकती है इसलिए भी ऐसा किया जाता है।

ये भी पढ़ेंः उपराष्ट्रपति चुनाव को लेकर मायावती का चौंकाने वाला फैसला, खुद मोदी भी हो जाएंगे हैरान

कुत्तों की पूंछ काटने को लेकर कई देशो में कानून बनाए गए है। जैसे ऑस्ट्रेलिया ,बेल्जियम, फ़िनलैंड में कुत्ते की पूंछ काटना गैरकानूनी है, लेकिन भारत में कुत्तों की पूंछ काटने पर कोई प्रतिबंध नहीं है।