उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ( CM Yogi Adityanath) के कैबिनेट में मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya) के इस्तीफे और सपा में जाने की खबरों के बीच कई और नेताओं के पार्टी छोड़ने के कयास लगने लगे. इसी बीच सोशल मीडिया पर कई तरह की बातें हुई. कई लोगों ने कहा कि टिकट कटने की डर से बीजेपी के सीटिंग विधायक से लेकर कई मंत्री पाला बदलने की फिराक में हैं. स्वामी प्रसाद मौर्य का बीजेपी से इस्तीफा उस वक्त आया जब दिल्ली में यूपी के प्रत्याशियों के नाम पर मंथन हो रहा है.

स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya)के बीजेपी छोड़ सपा ज्वाइन करने से जुड़ा ट्वीट अखिलेश यादव ने किया. इससे पहले स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya)ने ट्वीट करके बीजेपी छोड़ने और मंत्रीपद से रिजाइन देने की बात कही. इस पर बीजेपी के नेताओं के बयान भी आए. डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने स्वामी प्रसाद मौर्य को जल्दबाजी में कोई फैसला नहीं लेने की सलाह दी. बीजेपी प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने कहा कि स्वामी प्रसाद मौर्य के पार्टी छोड़ने का कोई असर नहीं होगा. उनके जाने से पार्टी को कोई नुकसान नहीं होने वाला है.

स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफे की टाइमिंग देखें तो दिल्ली में बीजेपी के प्रत्याशियों के नाम पर मंथन जारी है. इस हाईलेवल मीटिंग में सीएम योगी आदित्यनाथ समेत पार्टी के दिग्गज नेता मौजूद रहे. यह बैठक बुधवार को भी जारी रहेगी. टिकट बंटवारे पर बीजेपी की मैराथन बैठक में सीएम योगी के साथ बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह भी दूसरे दिन मौजूद रहेंगे. मीडिया में ऐसी खबरें आई कि बीजेपी की बैठक में 45 विधायकों के टिकट काटने पर फैसला हुआ है. इस पर पार्टी की तरफ से कोई बयान सामने नहीं आया है. इतना पता चला है दिग्गज नेता हालात पर नजर बनाए हुए हैं.

स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफे के बाद कई नेताओं के बीजेपी छोड़ने के कयास लगे. आयुष मंत्री डॉ. धर्म सिंह सैनी ने सपा में शामिल होने की संभावनाओं से इंकार किया. बदायूं के शेखुपुर सीट से बीजेपी विधायक धर्मेंद्र शाक्य ने पार्टी छोड़ने के कयासों पर ब्रेक लगा दिया. उन्होंने कहा कि उनके बारे में भ्रामक फैलाई जा रही है. वो भाजपा के अनुशासित सिपाही हैं और भाजपा में ही रहेंगे. वहीं, बिल्हौर भाजपा विधायक भगवती प्रसाद सागर और बांदा विधायक ब्रजेश प्रजापति ने इस्तीफा दे दिया है. हालांकि, पार्टी ने दोनों विधायकों के इस्तीफे को मंजूर नहीं किया है. अब नजर बुधवार को भी दिल्ली में होने वाली बीजेपी आलाकमान की बैठक पर है. बैठक के बाद ही आधिकारिक बयान आ सकता है.