अफगानिस्तान  में तालिबान  राज के बाद चारों तरफ अफरा-तफरी का माहौल है।  बम धमाके हो रहे हैं और गोलियां चल रही हैं।  पहले रिपोर्ट आई थी कि तालिबानी अपने लड़ाकों के लिए घर-घर जाकर 12 से 15 साल की लड़कियों को उठा रहा है।  

तालिबान अपने लड़ाकों से इन बच्चियों की शादी कराना चाहता है और उन्हें सेक्स स्लेव बनाना चाहता है।  इस बीच अब 21 साल की अफगानी से तालिबानियों के गैंगरेप की खबर आ रही है।  एक रिपोर्ट में कहा गया है कि तालिबान के लोग 21 साल की लड़की को शादी के नाम पर उठा ले गए थे।  फिर उसके साथ गैंगरेप किया गया। 

ऑस्ट्रेलियन-अमेरिकन जर्नलिस्ट हॉली मेक्के जो इराक, अफगानिस्तान, सीरिया जैसे क्षेत्रों से रिपोर्टिंग करती रही हैं, उन्होंने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि तालिबान कम उम्र की लड़कियों को घर-घर जाकर उठा रहा है।  इस रिपोर्ट में जिक्र किया गया है कि अफगानिस्तान के बदखासन गांव में एक शख्स को अपनी बेटी को तालिबानी लड़ाकों के हवाले करने को कहा गया था। 

हॉली ने लिखा-‘ हमें बताया है कि तालिबानी घर-घर जा रहे हैं और 12-15 साल की लड़कियों को शादी के लिए ढूंढ रहे हैं।  एक महीने पहले में गांव में इस आतंकी संगठन से जुड़े लोग पहुंचे थे। वे अपने आपको इस्लाम के रक्षक बता रहे थे और अपने आपको लोगों का उद्धारक बता रहे थे। 

इस गांव में जाने के बाद तालिबानियों ने एक शख्स से कहा था कि वो अपनी 21 साल की बेटी को तालिबानी मस्जिद लीडर को दे दें।  उन्होंने कहा था कि वो शादी करना चाहता है और इस शख्स को उनके लिए कुछ ना कुछ इंतजाम करना ही होगा।  ये सुनने के बाद अपनी बेटी की जान बचाने के लिए वो व्यक्ति डिस्ट्रिक्ट गर्वनर के पास गए।  मगर वहां से मायूसी हाथ लगी। 

डिस्ट्रिक्ट गर्वनर ने कहा कि उसे बेटी के लिए जो भी करना है, खुद ही करना होगा।  आखिरकार हार को शख्स को मजबूरन अपनी बेटी की शादी तालिबानी लड़ाके से करनी पड़ी।  शख्स को अपनी बेटी की शादी के तीन दिनों बाद पता चला था कि उसकी बेटी के साथ हर रात चार-पांच लोग गैंगरेप करते हैं। 

अफगानिस्तान से भारत पहुंची महिला मुस्कान ने तालिबानी आतंकियों की पोल खोल दी है. उसने बताया है कि तालिबानी आतंकी लड़कियों की डेडबॉडी के साथ भी रेप करते हैं. उनसे इंसानियत की उम्मीद नहीं की जा सकती. अफगानिस्तान की महिलाएं बहुत बड़े खतरे में हैं.

मुस्कान ने कहा, ‘वो लोग डेडबॉडी के साथ भी रेप करते हैं।  उन्हें फर्क नहीं पड़ता है कि लड़की जिंदा है या मर चुकी है।  इन लोगों पर कोई भरोसा नहीं है।  ये या तो उठाकर ले जाते थे या आकर सिर पर गोली मारकर जाते थे।  बस डायरेक्ट शूट करते थे।  जैसे कल एक लड़की को उठाकर ले गए।  ये अभी शुरुआत है।  वो लोग बहुत कुछ करते हैं।