कोरोना वायरस का ओमिक्रॉन वैरिएंट भारत में तेजी से फैल रहा है। वायरस के डेल्टा वैरिएंट के बाद अब ओमिक्रॉन एक प्रमुख वैरिएंट बनता जा रहा है जिसके कारण लोग संक्रमित हो रहे हैं। यह वैरिएंट न्यूनतम संपर्क के साथ तेज गति से फैलने के लिए जाना जाता है। 

हालांकि ओमिक्रॉन के चलते संक्रमण के ज्यादा गंभीर मामले सामने नहीं आए हैं, लेकिन यह वैरिएंट लोगों को कमजोर बना रहा है। और इससे भी बुरी बात यह है कि ओमिक्रॉन संक्रमण के लक्षण COVID-19 के बताए गए लक्षणों से अलग हैं। कोरोना के मामलों में स्वाद और गंध की कमी, बुखार और फ्लू शामिल हैं। लेकिन अमिक्रॉन में एक और लक्षण जुड़ा है। 

कुछ लक्षण कानों में भी दिखाई दे सकते हैं

स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञों के एक समूह ने इस संक्रमण के एक नए लक्षण की खोज की है। ओमिक्रॉन वैरिएंट आंखों से लेकर हृदय और मस्तिष्क तक के शरीर के कई हिस्सों को प्रभावित करने के लिए जाना जाता है। हालांकि, विशेषज्ञों के अनुसार कुछ लक्षण कानों में भी दिखाई दे सकते हैं।

क्या हैं ओमिक्रॉन के कान के लक्षण?

स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञों ने यह समझने के लिए COVID पॉजिटिव रोगियों के इंटरनल इयर मॉडल का परीक्षण किया कि वायरस सिस्टम को कैसे प्रभावित कर रहा है। उन्होंने पाया कि मरीज कान में दर्द और अंदर झुनझुनी की भी शिकायत कर रहे हैं। यह एक ऐसा लक्षण है जो अभी तक वायरस से जुड़ा नहीं है। यदि आपको कान में दर्द, कान का बजना, सीटी जैसी सनसनी, कान में झुनझुनी महसूस हो रही है, तो यह कोरोना वायरस के लक्षण का संकेत हो सकता है। और इससे भी बुरी बात यह है कि यह पूरी तरह से टीकाकरण वाले रोगियों में सबसे अधिक दिखाई दे रहा है।

इसके अलावा, ओमिक्रॉन वैरिएंट के अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

ठंड लगना

नाक का जमना

गले में खरांशे 

शरीर में दर्द

दुर्बलता

उल्टी आना

रात का पसीना

हल्के से तेज बुखार

खांसी

बहती नाक

थकान

सिरदर्द

तो हमेशा के लिए बहरे हो सकते हैं लोग?

डॉ. कॉन्स्टेंटिना स्टेनकोविक ने जोर देकर कहा कि ध्वनि और सुनने से संबंधित समस्याओं का सामना करने पर रोगियों का जल्द से जल्द परीक्षण किया जाए। यदि इस पर ध्यान न दिया जाए या लंबे समय तक बिना ध्यान दिए छोड़ दिया जाए, तो संक्रमण से सुनने की क्षमता भी प्रभावित हो सकती है।