यूक्रेन पर रूसी हमले के बीच वहां से भारतीय नागरिकों को निकालने का काम लगातार जारी है. इस बीच यह खबर आ रही है कि एक 17 साल की भारतीय नागरिक नेहा सांगवान अपनी मर्जी से यूक्रेन छोड़कर नहीं आना चाहती है.

यह भी पढ़े : अमित शाह का बड़ा बयान, 'योगी सरकार ने निवेश का रास्ता किया साफ, अब युवाओं को मिलेगा रोजगार'


नेहा के मानवीय कदम की हो रही तारीफ

नेहा सांगवान के बारे में टाइम्स आफ इंडिया ने खबर छापी है, वहीं सोशल मीडिया में भी नेहा के इस कदम की चर्चा है. लोग नेहा के लिए चिंतित तो हैं, साथ ही वे उसके इस मानवीय कदम पर उसकी तारीफ भी कर रहे हैं.

सविता जाखर ने लिखा फेसबुक पोस्ट

नेहा के बारे में में सविता जाखर ने फेसबुक पोस्ट लिखा है जिसमें उन्होंने बताया कि नेहा उनके करीबी दोस्त की बेटी है और वह हॉस्टल मे जगह नहीं मिलने की वजह से एक तीन बच्चों वाले परिवार के साथ पेइंग गेस्ट की तरह रह रही थी. यूक्रेन पर रूसी हमले के बाद बच्चों के पिता ने आर्मी ज्वाइन कर ली, तीन बच्चों के साथ मां एक बंकर में हैं. नेहा भी उनके साथ है. नेहा की मां ने बड़ी मुश्किल से एम्बेसी से कॉन्टैक्ट करके उसे वहां से निकलवाने की कोशिश की, लेकिन नेहा उन तीन बच्चों और उनकी मां को ऐसे मुश्किल वक्त में अकेला छोड़ कर वापस नहीं आना चाहती है.

यह भी पढ़े : अक्षय कुमार की फिल्म पृथ्वीराज के खिलाफ दायर याचिका पर दिल्ली HC ने कही ये बात, मूवी के टाइटल पर था बवाल


मां की लाख कोशिशों के बावजूद नेहा युद्ध खत्म होने तक वहीं रुकने की जिद पर अड़ी है. उसका कहना है कि वह जिंदा रहे या ना रहे, लेकिन वह इस परिवार को इस मुश्किल घड़ी में छोड़कर वापस नहीं आ सकती है. नेहा हरियाणा की रहने वाली है और उसके पिता सेना में थे.

गौरतलब है कि कल रोमानिया से 219 भारतीय छात्रों को लेकर एयर इंडिया का विमान मुंबई पहुंचा था. उसके बाद 250 यात्रियों का विमान रोमानिया से रवाना हुआ, इस बीच यह खबर आ रही है कि यूक्रेन से भारतीयों को सुरक्षित निकालने का काम जारी है.

यूक्रेन में लगभग 16 हजार लोग फंसे हैं, जिन्हें निकालने के लिए भारत सरकार लगातार प्रयास कर रही है. विदेश मंत्रालय और यूक्रेन और हंगरी में स्थित भारतीय दूतावास लगातार लोगों के संपर्क में है और उनकी सुरक्षित रिहाई की कोशिश में जुटा है.