भारतीय रेलवे की तरफ से शुरू की गई रामायण सर्किट एक्सप्रेस (Ramayana Circuit Express) में वेटर्स के पहनावें को लेकर विवाद बढ़ने के बाद सोमवार को कर्मचारियों के पहनावें में बदलाव करने का फैसला लिया है. इस रामायण यात्रा ट्रेन में काम करने (Controversy increased over the clothes of the waiters) वाले कर्मचारियों के लिए भगवा पहनावा निश्चित किया गया था. 

रेलवे के इस फैसले का संतों ने जमकर विरोध किया था और कर्चारियों के (change the clothes of the employees) पहनावे को बदलने के लिए कहा था. अलग अलग राज्यों से विवाद बढ़ता देख रेलवे ने अब ड्रेस के तौर पर भगवा कपड़े (Railways has now replaced the saffron cloth as a dress) को हटाकर कर्मचारियों के लिए प्रोफेशनल यूनिफॉर्म को लागू कर दिया है.

पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से भारतीय रेलवे की तरफ से रामायण यात्रा ट्रेन (Ramayana Yatra train) चलई गई है. रेलवे ने रामायण को आधार बनाते हुए ट्रेन के अंदर काम करने वाले कर्मचारियों के लिए भगवा कपड़े को ड्रेस के तौर पर निर्धारित किया था. अब रेलवे ने इसे पूरी तरह से बदल दिया है. रेलवे ने कर्मचारियों की पोशाक को बदलते हुए कहा कि अगर किसी को असुविधा हुई है तो उसके लिए खेद है.