उत्तर प्रदेश के लखमीपुर खीरी (Lakhmipur Kheri) में हिंसा और किसानों की मौत (Death of farmers in Lakhmipur Kheri in Uttar Pradesh) के मुद्दे का इस्तेमाल कांग्रेस पार्टी पंजाब चुनाव में भी करने में जुट गई है। 

पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) ने गुरुवार से मोहाली से लखीमपुर खीरी तक मार्च का ऐलान किया है, जिसकी अगुआई नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) करेंगे, जिन्होंने पिछले दिनों चन्नी सरकार में अपनी दखल नहीं स्वीकार किए जाने से नाराज होकर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) के एक नेता ने बताया कि नवजोत सिंह सिद्धू इस पैद मार्च की अगुआई करेंगे, जो मौहाली से गुरुवार को शुरू होगी और लखीमपुर खीरी तक जाएगी। इससे पहले मंगलवार को सिद्धू ने चेतावनी दी थी कि यदि प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) को रिहा नहीं किया जाता और केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे (Union Minister Ajay Mishra son)  की गिरफ्तारी नहीं होगी तो प्रदेश ईकाई लखीमपुर खीरी तक मार्च करेगी।  

लखीमपुर हिंसा (Lakhimpur violence) को लेकर पहले भी प्रदर्शन कर चुके सिद्धू ने उत्तर प्रदेश सरकार को मांगों को मानने के लिए बुधवार तक का समय दिया था। प्रियंका गांधी ( Priyanka Gandhi) को तो सीतापुर गेस्ट हाउस (Sitapur Guest House) से रिहा कर दिया गया है, लेकिन केंद्रीय मंत्री के बेटे की गिरफ्तारी नहीं हुई है। ऐसे में सिद्धू अब मार्च निकालने को तैयार हैं।