कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) के लखीमपुर जाने को लेकर गतिरोध अब खत्‍म हो गया है। पहले मनाही, फिर इजाजत...इसके बाद एयरपोर्ट पर गाड़ी और रूट को लेकर जद्दोजहद। 

राहुल के सीतापुर से होते हुए लखीमपुर (Lakhimpur via Sitapur)  जाने को लेकर बुधवार को सुबह से सियासी हलचल मची रही। राहुल ने सुबह दिल्‍ली में प्रेस कांफ्रेंस कर सरकार पर तानाशाही और किसानों को कुचलने का आरोप लगाया। इसके बाद दिल्‍ली हवाई अड्डा पहुंच गए। 

यूपी सरकार ने हवाई अड्डे पर राहुल को रोकने का अनुरोध किया था इसलिए वहां CISF ने उन्‍हें रोक लिया। लेकिन कांग्रेस नेताओं के बोर्डिंग पास (Boarding passes) दिखाने और कड़ी आपत्ति करने के बाद एयरपोर्ट अर्थारिटी (Airport authority) ने उन्‍हें लखनऊ की फ्लाइट लेने की इजाजत दे दी।

राहुल, लखनऊ के रास्‍ते में थे कि खबर आई कि यूपी सरकार ने उन्‍हें इजाजत दे दी है। लेकिन राहुल जब एयरपोर्ट पर पहुंचे तो एक बार फिर गाड़ी और रूट को लेकर गतिरोध पैदा हो गया। दरअसल, राहुल अपनी गाड़ी से पहले सीतापुर फिर लखीमपुर जाने पर अड़े थे जबकि प्रशासन उन्‍हें अपनी गाड़ी से और दूसरे रूट से भेजना चाहता था। 

प्रशासन ने रस्‍सी लगाकर उन्‍हें रोक दिया। इसके बाद राहुल, छत्‍तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्री भूपेश सिंह बघेल (Bhupesh Singh Baghel) और पंजाब के मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी (Charanjit Singh Channi) के साथ वहीं धरने पर बैठ गए। करीब आधे घंटे के गतिरोध के बाद प्रशासन का रुख नरम पड़ा और राहुल को उनकी ही गाड़ी से सीतापुर से होते हुए लखीमपुर जाने की इजाजत मिल गई।