अमरीका में कोरोना का खतरा अभी कम हुआ ही नहीं था कि एक और नई आफत ने मुश्किल बढ़ा दी है। ओमिक्रॉन वैरिएंट (Omicron Variant) का पहला केस सामने आने के बाद व्हाइट हाउस में भी हलचल बढ़ गई है।

कोरोना वायरस ( Coronavirus ) खतरे के बीच नए वैरिएंट अमोक्रॉन ( Omicron Variant ) ने सबकी चिंता बढ़ा दी है। इस बीच अमरीका ( America ) से बड़ी खबर सामने आई है। यहां पहले ही कोरोना के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है ऐसे में अब नई आफत ने भी दस्तक दे दी है। अमरीका में ओमिक्रॉन वैरिएंट का पहला मामला सामने आया है। कैलिफोर्निया ( California )का एक शख्स वायरस के इस नए वैरिएंट से संक्रमित पाए जाने के बाद हड़कंप मच गया है।

व्हाइट हाउस ने इस पहले मामले की पुष्टि कर दी है। अमरीकी राष्ट्रपति के मुख्य चिकित्सा सलाहकार डॉ. एंथोनी फौसी के मुताबिक दक्षिण अफ्रीका से कैलिफोर्निया लौटे व्यक्ति में कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन का संक्रमण मिला है। उधर ओमिक्रॉन के खतरे के बीच दक्षिण अफ्रीका में लेवल 1 का लॉकडाउन घोषित कर दिया गया है।

दरअसल राष्ट्रपति जो बाइडेन ( Joe Biden ) के प्रशासन ने पिछले महीने के अंत में दक्षिण अफ्रीकी देशों से यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया था। यहीं पर कोविड के नए वैरिएंट का पता चला था। मौजूदा समय में ओमिक्रॉन वैरिएंट 24 से ज्यादा देशों में फैल चुका है। ऐसे में माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में ये वैरिएंट कई देशों में नई लहर का जिम्मेदार हो सकता है।

वैक्सीन की दोनों खुराक ले चुका था शख्स

डॉ. एंथोनी फौसी के मुताबिक संक्रमित व्यक्ति 22 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका ( South Africa ) से लौटा था और 29 नवंबर को वह जांच में संक्रमित पाया गया था।

इस शख्स का वैक्सीनेशन हुआ है लेकिन उसने वैक्सीन की बूस्टर खुराक नहीं ली है। इसके बाद उसने हल्के लक्षणों का अनुभव किया, हालांकि इसमें अभी सुधार आ रहा है।

बूस्टर डोज की अपील

ओमिक्रॉन वैरिएंट की दस्तक के बाद व्हाइट हाउस भी हरकत में आया है। व्हाइट हाउस ने अपने एक बयान में अमरीकियों से कोरोना वैक्सीन और बूस्टर डोज लेने की भी अपील की है। ताकि इस वैरिएंट के खतरे से निपटा जा सके।

अभी दो से चार हफ्ते करना होगा इंतजार

डॉ. एंथनी फौसी के मुताबिक अब तक ओमिक्रॉन वैरिएंट के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं मिली है। जैसे, ये कितना घातक है, ये किस तरह शरीर पर हमला करता है इससे बचाव का सटीक तरीका आदि बातों की जानकारी के लिए फिलहाल दो से चार हफ्ते का इंतजार करना होगा। ऐसे में सावधानी और सतर्कता ही सबसे बड़ा हथियार है।

वहीं राष्ट्रपति बाइडन ने भी अमरीकियों से कहा है कि नया वैरिएंट निश्चित रूप से चिंता बढ़ाने वाला है, लेकिन इससे घबराने की जरूरत नहीं है। इस बीच ज्यादा से ज्यादा वैक्सीनेशन पर जोर दिया जा रहा है ताकि इस खतरे को काफी हद तक कम किया जा सके।

दक्षिण अफ्रीका में लगा लॉकडाउन

वहीं अफ्रीकी देश में भारी संख्या में लोग कोरोना की चपेट में आ रहे हैं। स्थिति ज्यादा खराब होने के बीच ज्यादातर मरीज ओमिक्रॉन वेरिएंट से संक्रमित पाए जा रहे हैं। हालात कितने चिंताजनक हैं, इसका अंदाजा इसी बात से लग सकता है कि दक्षिण अफ्रीका में लेवल वन का लॉकडाउन घोषित कर दिया गया है।