झोला भर पैसे लेकर बाजार जाना और मुठ्ठी भर सामान ले कर आना.. ऐसी कहावतें तो अक्सर आप सुनते होंगे लेकिन श्रीलंका के लोगों के लिए यह सच साबित हो रहा है. भारत का पड़ोसी देश श्रीलंका दिवालिया होने की कगार पर पहुंच गया है. यहां खाने पीने की वस्तुओं के दामों में जबरदस्त उछाल दर्ज किया जा रहा है. 

यहां एक महीने में खाने पीने की चीजें 15 फीसदी तक महंगी हो गई है. 100 ग्राम मिर्च की कीमत 71 रूपए हो गई है यानी एक किलों मिर्च 700 रूपए से भी अधिक कीमत पर बिक रही है. मिर्च की कीमत में सबसे अधिक 287 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. इतना ही नहीं यहां महंगाई से हाहाकार मचा हुआ है. आम आदमी की पहुंच से कई सारी हरी सब्जियां बाहर हैं.

इधर श्रीलंका के एडवोकेट इंस्टीट्यूट (Advocate Institute) ने महंगाई के आंकड़े जारी किए हैं. जिसमें बताया है कि पिछले महीने की तुलना में इस महीने महंगाई में 15 फीसदी का इजाफा हुआ है. महंगाई के बढ़ने की सबसे बड़ी वजह सब्जियों की कीमतों में आया उछाल है. लगभग सारी हरी सब्जियों की कीमतों में उछाल दर्ज किया गया है. महंगाई ने आम लोगों की कमर तोड़ दी है.

एडवोकेट इंस्टीट्यूट का Bath curry Indicator श्रीलंका में खुदरा वस्तओं की महंगाई के आंकड़ों को जारी करता है.बीसीआई के आंकड़ों के अनुसार नवंबर 2021 से दिसंबर 2021 के बीच खाने पीने की वस्तुओं में महंगाई 15 फीसदी तक बढ़ीं हैं. इसमें मिर्च के बाद बैंगन की कीमतों में 51 फीसदी, लाल प्याज की कीमत में 40 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. इतना ही नहीं, आयात की कमी की वजह से मिल्क पाउडर भी लोगों को नहीं मिल रहे हैं. श्रीलंका में कीमतों की बात करें तो टमाटर 200 रूपए प्रति किलो, बैंगन 160 रूपए जबकि भिंडी 200 रूपए प्रति किलो मिल रहा है.