नई दिल्ली। असुरक्षित यौन संबंध की वजह से एड्स जैसी जानलेवा बीमारी फैलने का खतरा सबसे ज्यादा होता है। दुनियाभर में 2021 में एड्स के 10 लाख नए मामले सामने आए और 6.5 लाख लोगों ने अपनी जान गंवाई। 1999 में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने HIV एड्स को दुनिया में मौत का चौथा सबसे बड़ा कारण बताया था। उस समय अमेरिका में एड्स की वजह से पुरुषों ने सबसे ज्यादा जान गंवाई थी। हालांकि अब भी गरीब देशों में ये बीमारी मौत की 9वीं सबसे बड़ी वजह बनी हुई है। विश्व स्तर पर इस बीमारी पर रोकथाम लगाना आसान नहीं था लेकिन कंडोम के बढ़ते यूज से इसके केस कम होते चले गए।

यह भी पढ़े : December Rashi Parivartan : कई बड़े ग्रह करेंगे राशि परिवर्तन, इन राशियों के लोगों मिलेगी अपार धन-दौलत

आज विश्व एड्स 2022 दिवस है। लेकिन भारत आज भी इस मामले में दुनिया में तीसरे नंबर पर है और इसकी बड़ी वजह पुरुषों का कंडोम के इस्तेमाल नहीं करना है। अब सवाल ये है कि भारतीय पुरुष कंडोम का उपयोग करने से कतराते क्यों हिचकिचाते हैं? यह भी जानना जरूरी है कि इस झिझक के पीछे क्या मानसिकता है। 2022 में UNAIDS की जारी रिपोर्ट के मुताबिक, 2021 तक भारत में 24.01 लाख एड्स के मरीज थे, जिसमें 10.83 लाख महिलाएं और 51 हजार बच्चे शामिल हैं। यह सभी बच्चे 12 साल की उम्र से कम हैं। नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे-5 के अनुसार 10 में से 1 पुरुष ही कंडोम यूज कर करते हैं।

हालांकि, पहले के मुकाबले लोगों के बीच एड्स का डर तो कम हुआ है। लेकिन कोरोना वायरस वजह से सरकार के जागरूकता कार्यक्रम की रफ्तार धीमी पड़ गई। इससे एड्स की रोकथाम में कंडोम के महत्व की जानकारी भी लोगों तक पहुंचने में रुकावट आई। सेक्स एजुकेशन की कमी और गलत जानकारी के आसानी से मिलने पर टीनेजर्स भी सेक्शुअली एक्टिव हो रहे हैं। एड्स क्या है, इससे बचने के लिए कंडोम कितना जरूरी है, ये जानकारी उन तक नहीं पहुंचती। जिससे मुश्किलें और बढ़ी हैं।

यह भी माना जाता है कि कंडोम का इस्तेमाल समाज में शर्म की बात समझी जाती है। आज भी पुरुष कंडोम खरीदने से झिझकते हैं। कुछ लोग कंडोम पहनने के बाद असहज होते हैं। इसका खामियाजा महिला को अनचाही प्रेग्नेंसी और एड्स के रूप में भुगतना पड़ता है। कंडोम एलाइंस की रिपोर्ट भी भारत में कंडोम के कम इस्तेमाल का कारण सामाजिक सोच बताती है।

यह भी पढ़े : Shani Transit 2023: शनि के राशि परिवर्तन से इन राशियों की चमकेगी किस्मत इन्हे होगी हानि

इस रिपोर्ट के मुताबिक भारत में केवल 27% पुरुषों और 7% महिलाओं ने ही शादी से पहले कंडोम का इस्तेमाल किया। केवल 13% पुरुषों और 3% महिलाओं ने ही हमेशा कंडोम इस्तेमाल करने की बात कबूल की। इससे साफ जाहिर है कि कई लोग आज भी कंडोम के इस्तेमाल को लेकर जागरूक नहीं हैं। वहीं, अमेरिकन जर्नल ऑफ हेल्थ बिहैवियर की रिपोर्ट के अनुसार कंडोम यूज करने पर पुरुषों को संतुष्टि नहीं मिलती। जबकि, कई पुरुषों को महसूस होता है कि उन्हें कंडोम की जरूरत ही नहीं है।