लखीमपुर खीरी हिंसा (Lakhimpur Kheri violence) मामले में पीड़ितों से मिलने की जिद पर अड़ीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) को 36 घंटे की हिरासत के बाद गिरफ्तार किया गया है। रविवार की हिंसा में मारे गए किसानों के परिवारों से मिलने लखीमपुर खीरी जा रही प्रियंका को सोमवार सुबह पुलिस ने हिरासत में ले लिया था।

प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) के अलावा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू (Ajay Kumar Lallu) , राष्ट्रीय सचिव धीरज गुर्जर (National Secretary Dheeraj Gurjar) , युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीवी श्रीनिवास (BV Sriniva) , पार्टी एमएलसी दीपक सिंह को भी एहतियातन हिरासत में लिया गया है। इनके खिलाफ धारा 151,107,116 के तहत केस दर्ज किया गया है। प्रियंका के लिए PAC गेस्ट हाउस को अस्थाई जेल (Temporary jail for Priyanka) बनाया गया है।

इससे पहले आज सुबह, प्रियंका ने लखीमपुर खीरी की घटना का एक वायरल वीडियो (viral video of the Lakhimpur Kheri incident) ट्वीट किया और पूछा कि चार किसानों की हत्या के पीछे के व्यक्ति को गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया, जबकि वह बिना प्राथमिकी के 28 घंटे से हिरासत में है।

उनकी पार्टी ने आरोप लगाया कि पीएसी गेस्ट हाउस में प्रियंका की आवाजाही पर नजर रखने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया जा रहा है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Chhattisgarh Chief Minister Bhupesh Baghel ) ने ड्रोन निगरानी का एक वीडियो ट्वीट किया। उन्होंने ट्वीट किया, "जिम्मेदारी कौन लेगा, यह किसका ड्रोन है और क्यों है।"

कांग्रेस का आरोप है कि सीतापुर के हरगांव इलाके में सोमवार सुबह तड़के हिरासत में लिए जाने के कारण उन्हें 30 घंटे तक अवैध हिरासत में रखा गया है।

सीतापुर में पीएसी गेस्ट हाउस (PAC guest house in Sitapur)  के बाहर सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ता अपने नेता प्रियंका गाँधी की रिहाई का इंतजार कर रहे हैं। प्रियंका ने कहा है कि रिहा होते ही वह शोक संतप्त परिवारों से मिलने लखीमपुर खीरी जाएंगी।