उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) में केंद्रीय मंत्री की गाड़ी से कुचलकर मारे गए किसानों के परिवारों के लिए पंजाब और छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार (Congress governments)  ने भी आर्थिक मदद का ऐलान किया है। 

पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Punjab Chief Minister Charanjit Singh Channi) और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Chhattisgarh Chief Minister Bhupesh Baghel) ने किसानों के साथ एकजुटता जाहिर करते हुए कहा कि मृतकों के परिवारों ( Announced Rs 50 lakh each to the families of the deceased) को 50-50 लाख रुपए देने का ऐलान किया है। उन्होंने घटना की कवरेज के दौरान मारे गए पत्रकार के परिवार को भी 50-50 लाख रुपए देने की बात कही है।

दोनों राज्य मारे गए किसानों और पत्रकार के परिवार को कुल 1 करोड़ रुपए की सहायता देंगे। योगी सरकार पहले ही 47-47 लाख रुपए और सरकारी नौकरी देने का ऐलान कर चुकी है। 

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के साथ लखीमपुर खीरी में पीड़ित परिवारों से मिलने के लिए लखनऊ में लैंड करने के बाद चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा, ''हम मारे गए किसानों के परिवारों के साथ हैं। पंजाब सरकार की ओर से मैं पत्रकार सहित मारे गए लोगों के परिवारों को 50-50 लाख रुपए देने का ऐलान करता हूं।''

चन्नी के साथ खड़े छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने भी किसानों के लिए आर्थिक मदद का ऐलान किया। उन्होंने कहा, ''छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से मैं हिंसा में मारे गए किसानों और पत्रकार के परिवारों को 50-50 लाख रुपए देने का ऐलान करता हूं।''

गौरतलब है कि लखीमपुर खीरी जिले के तिकोनिया क्षेत्र में रविवार को उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prasad Maurya) के केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के पैतृक गांव के दौरे के विरोध को लेकर भड़की हिंसा में चार किसानों समेत 8 लोगों की मौत हो गई थी। चार किसानों के अलावा तीन बीजेपी कार्यकर्ता और केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के ड्राइवर की मौत हो गई थी। इस दौरान घायल हुए पत्रकार रमन कश्यप ने भी अगले दिन दम तोड़ दिया था। इस मामले में मिश्रा के बेटे आशीष समेत कई लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।