किआ बहुत जल्द भारत में अपनी बिल्कुल नई कैरेंस लॉन्च करने को तैयार है जिसे अगले महीने लॉन्च किया जाएगा. कंपनी ने इस कार का भारत में प्रोडक्शन शुरू कर दिया है और आज ही कंपनी ने इसका पहला मॉडल आंध्र प्रदेश स्थित प्लांट से बाहर भेजा गया है. कंपनी की ओर से कैरेंस भारत में चौथा गाड़ी होगी, कंपनी पहले से देश में किआ सेल्टोस, सॉनेट और कार्निवल बेच रही है. बता दें कि किआ कैसेंर का उत्पादन भारत में ही किया जाएगा और यहीं से 80 देशों के लिए इसे निर्यात किया जाएगा.

किआ अपनी सबसे नई गाड़ी कैरेंस को लेकर आई है. सेल्टोस पर आधारित कैरेंस एक तीन रोव्स वाली 6/7 सीटर एसयूवी/एमपीवी  है लेकिन यह सिर्फ एक विस्तारित सेल्टोस से कहीं अधिक है, यह कार सेल्टोस या सॉनेट की तुलना में बहुत अधिक गुड फील वाली दिखती है. कार का सबसे अच्छा हिस्सा उसका नया लुक वाला फ्रंट है. सड़क पर यह आकर्षक लगती है।  कार का इंपीरियल ब्लू और इंटेंस रेड कलर को काफी पसंद किया जा रहा.

किआ ने सुनिश्चित किया है कि कैरेंस के नए लुक वाले फ्रंट पर बहुत बातें होंगी, जिसमें डीआरएल और हेडलैम्प्स के साथ दो-भाग वाली ग्रिल मिलती है, जो एक पतली ग्लॉस ब्लैक ग्रिल से अलग होती है. करीब से देखेंगे तो आपको ग्रिल पर भी एक अच्छा पैटर्न दिखाई देगा. ग्रिल के निचले हिस्से में बड़ा बदलाव है. ऐसा लगता है कि किआ ने अपने 'टाइगर नोज ग्रिल' डिजाइन को पीछे छोड़ दिया है और इसे सेल्टोस के लिए रखा है. साइड से देखने पर आपको लगेगा कि यह एक एमपीवी है, जिसमें बड़ी विंडो लाइन और सीधी छत के साथ एक स्पष्ट एमपीवी जैसा स्टाइल है. इसमें क्लैडिंग, रूफ रेल और क्रोम भी है. हालांकि, हमें लगता है कि 16 इंच के छोटे पहिये ही एकमात्र ऐसी चीज हैं, जिसे हम अपग्रेड करना चाहते हैं, यह बहुत छोटे हैं. रियर भी उत्तम दर्जे का है, जिसमें एक एलईडी पट्टी के माध्यम से जुड़े बड़े टेल-लैंप हैं. एक चीज जिसके बारे में हमने बात नहीं की है लेकिन अब करेंगे, यह इसका आकार है क्योंकि यह प्रतिद्वंद्वियों या यहां तक ​​कि सेल्टोस से भी बड़ा है. इसकी लंबाई 4540 मिमी है.

एक्सटीरियर आपको सोचने पर मजबूर कर देगा कि यह एसयूवी है या एमपीवी लेकिन पहली नज़र में इंटीरियर एक प्रीमियम कार की तरह लगता है. डैशबोर्ड पर अब कम बटन हैं. इस पर एक विशाल ग्लॉस ब्लैक पैनल है, जिसमें एक यूनीक पैटर्न भी है. डैशबोर्ड पर 10.25 इंच का बड़ा टचस्क्रीन मिलता है. इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर पूरी तरह से डिजिटल होने के साथ-साथ कॉन्फिग्रेबल डिस्प्ले और अच्छी क्वालिटी की डिस्प्ले है. नीचे टच क्लाइमेट कंट्रोल बटन दिए गए हैं. इसके और नीचे यूएसबी सी पोर्ट, स्टैंडर्ड यूएसबी पोर्ट, सीट कूलर और ड्राइव मोड दिए गए हैं. इसमें एक मानक मैनुअल पार्किंग ब्रेक है.

कैरेंस में रूफ माउंटेड एसी वेंट भी हैं, जिसका मतलब है कि इसमें एक स्टैंडर्ड सनरूफ मिलता है, पैनोरमिक सनरूफ नहीं मिलता है. यही एकमात्र बड़ा फीचर है, जो गायब है लेकिन यह बेहतर कूलिंग के लिए अच्चा कुछ है. इसके अलावा, इसमें इतने फीचर्स दिए गए हैं, जो इसे अधिक महंगी एसयूवी को टक्कर देते हैं. यहां तक कि कई ऐसे फीचर्स हैं, जो कई लग्जरी कारों में भी नहीं मिलते हैं. तीसरी पंक्ति तक पहुंच के लिए इलेक्ट्रिक वन-टच टम्बल ऑपरेशन दिया गया है. यह एक शानदार फीचर है और तीसरी पंक्ति में प्रवेश करना बहुत आसान बनाता है. तीसरी पंक्ति में जगह के मामले में यह बेस्ट कारों (इस कीमत या ज्यादा कीमत की एसयूवी) में से एक है. यहां तक ​​​​कि लंबे लोग भी इसमें सहज होकर सफर कर सकेंगे और लंबी दूरी तक बैठने में दर्द नहीं होगा. इसमें अच्छा हेडरूम है और थाई (Thigh) सपोर्ट भी है. ध्यान दें कि यहां एडजस्टेबल हेडरेस्ट और रिक्लाइन फंक्शन भी हैं.

दूसरी पंक्ति में कैप्टन सीटें मिलती हैं. एक लंबा व्हीलबेस होने से कैरेंस में दूसरी पंक्ति में यात्रियों के लिए अपने पैरों को फैलाने के लिए पर्याप्त जगह होती है. अंदर और बाहर निकलना भी काफी आसान है. इसकी लो-सेट सीटें बैठना भी आसान बनाती हैं. यहां भी अच्छा हेडरूम/लेगरूम और थाई (Thigh) सपोर्ट मिलता है. रिक्लाइन फंक्शन भी दिया गया है. कपहोल्डर्स के साथ रिट्रैक्टेबल टेबल, एयर प्यूरीफायर वगैरह के साथ बहुत सारे गैजेट भी हैं. हालांकि, जो अजीब है वह यह कि एयर प्यूरीफायर को ड्राइवर की सीट के पीछे दिया गया है. इसके अलावा 64 कलर एंबियंट लाइटिंग, यूवीओ कनेक्टेड टेक, रियर व्यू कैमरा, 8-स्पीकर बोस ऑडियो सिस्टम सहित बहुत कुछ है, जिनके बारे में बातें की जा सकती हैं. ध्यान देने योग्य है कि कैरेंस में मानक 6 एयरबैग, ऑलराउंड डिस्क ब्रेक और रियर पार्किंग सेंसर आदि हैं. बूट स्पेस भी अच्छा है क्योंकि तीनों पंक्तियों के साथ भी आपके पास उत्कृष्ट बूट स्पेस है. इसके अलावा दो पंक्तियों को फोल्ड करके यह और अधित हो जाता है. डोर पॉकेट्स बहुत बड़ी हैं और आगे तथा पीछे पॉप आउट कप होल्डर हैं. 

Kia Carens के साथ मिलने वाले तीनों इंजन विकल्पों में सबसे तगड़ा 1.4-लीटर चार-सिलेंडर टर्बो-पेट्रोल इंजन है जो 140 हॉर्सपावर बनाता है और 6-स्पीड मैनुअल के साथ 7-स्पीड डीसीटी गियरबॉक्स से लैस है. इसका डीसीटी वेरिएंट पैडल शिफ्टर्स के साथ आता है. मुकाबले में ये फीचर सिर्फ महिंद्रा मराजो के डीजल वेरिएंट में मिला है, वहीं अर्टिगा और एक्सएल6 के पेट्रोल वेरिएंट पैडल शिफ्टर्स के साथ आते हैं. जहां तीन कतार वाली लगभग सभी कारों के साथ आज की तारीख में पैनरमिक सनरूफ दी जा रही है, किआ ने कैरेंस के साथ सिंगल-पेन सनरूफ दी है.

आपको पैडल शिफ्टर्स और ड्राइव मोड मिलते हैं, जिसका मतलब है कि आप कैरेंस को स्पोर्टी तरीके से ड्राइव कर सकते हैं. यह शहर में चलाने के लिहाज से भी बेहतर है क्योंकि इसमें हल्का स्टीयरिंग है और बहुत ज्यादा बड़ी भी नहीं है. डीसीटी गियरबॉक्स सेल्टोस की तुलना में अधिक स्मूथ है, जिसमें सहज क्रूज़िंग के लिए ध्यान केंद्रित किया गया है. एक ऑफ-रोडर नहीं होने के बावजूद 195 मिमी का ग्राउंड क्लीयरेंस खराब सड़कों और गड्ढों में भी बिना समस्या के ड्राइव करने के लिए अच्छा है. इसे ईको मोड में चलाएंगे तो आपको 10-11 किमी/लीटर का माइलेज मिलेगा, जो इसी गियरबॉक्स/इंजन वाले अन्य उत्पादों से बेहतर है.

ड्राइव के दौरान बड़ी खिड़कियां अंदर के यात्रियों को अच्छा अनुभव देती हैं. इसका बॉडी कंट्रोल भी अच्छा है. इसका ओवरऑल सस्पेंशन और शांति, लंबी दूरी की यात्रा को आसान बनाती है. कैरेंस को पूरी सोच समझ के साथ तैयार किया गया है. इसका लक्ष्य थ्री रो कार को खुद चलाने वाले खरीदारों और उन मालिकों के लिए बनाया गया है, जो इधर-उधर घूमना पसंद करता है. कार के फीचर्स, जगह और यूनीक वन टच इलेक्ट्रिक सीट फोल्ड ऑपरेशन बढ़िया है. इसकी ड्राइविंग/सवारी भी अच्छी है. दूसरे शब्दों में कहें यह एक कार की तरह ड्राइविंग डायनामिक्स के साथ एक विशाल और आरामदायक तीन पंक्ति वाला वाहन है. आक्रामक कीमत की उम्मीद के साथ कैरेंस को वास्तव में बहुत अच्छा प्रदर्शन करना चाहिए.