अंतरराष्ट्रीय बिल्ली दिवस हर साल 8 अगस्त को मनाया जाता है। पहली  बार यह साल 2002 में मनाया गया था। जब पशु कल्याण के लिए स्थापित की गई अंतरराष्ट्रीय निधि द्वारा बिल्ली के संरक्षण की बात की गई थी। उसी दौरान अंतरराष्ट्रीय निधि ने हर वर्ष 8 अगस्त को अंतरराष्ट्रीय बिल्ली दिवस मानने की शुरुआत की थी। इसके बाद से पूरी दुनिया में हर साल 8 अगस्त को बिल्ली दिवस मनाया जाने लगा। इसका एक मुख्य उद्देश्य बिल्ली का संरक्षण करना और उसकी मदद करना है। भारत में भी बिल्ली दिवस को काफी धूम धाम से मनाया जाता है।

यह भी पढ़े : Putrada Ekadashi 2022:  पुत्रदा एकादशी आज, संतान की प्राप्ति के लिए रखा जाता है व्रत , जानें शुभ मुहूर्त व पूजा विधि

बिल्ली की गिनती पालतू जानवर में की जाती है। बिल्ली दिवस को मनाने का तरीका और तिथि सभी देशों में अलग-अलग है। रूस में इसे 1 मार्च को मनाया जाता है। वहीं, अमेरिका में यह 29 अक्टूबर को सेलिब्रेट किया जाता है। जबकि जापान में यह 22 फरवरी को मनाया जाता है। हालांकि, ज्यादातर देशों में 8 अगस्त को ही बिल्ली दिवस मनाया जाता है। इस दिन कई कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाता है।

जैसा कि हम सब जानते हैं कि जानवर बोलने में असमर्थ होते हैं, लेकिन अपनी भावना वो अच्छे से प्रकट कर सकते हैं। ऐसे में बिल्ली जो कि बेहद प्यारी और घरेलू जानवर मानी जाती है। उसके संरक्षण और मदद की जिम्मेदारी हमलोगों पर ही है। आधुनिक समय में बिल्ली पालने का प्रचलन काफी बढ़ गया है। इससे समाज में काफी जागरूकता आई है। धरा पर मौजूद सभी प्रजातियों का संरक्षण करना हमारी जिम्मेदारी है।

यह भी पढ़े : Horoscope August 8 : आज सावन का आखिरी सोमवार इन राशियों पर बरसेगी भोलेनाथ की कृपा, बजरंग बली की

ऐसा माना जाता है कि दुनिया भर में लगभग 500 मिलियन बिल्लियाँ पड़ोसियों के बगीचों में घूमती हैं। यह बहुत अच्छा भी है, क्योंकि बिल्ली के मालिक होने से मानसिक स्वास्थ्य में काफी सुधार होता है, वहीं तनाव, चिंता और अवसाद दूर हो जाता है।