भारतीय वायु सेना का आज 90वां स्थापना दिवस मनाया जा रहा है। भारतीय वायु सेना के इतिहास में पहली बार एयरफोर्स डे की परेड का आयोजन चंडीगढ़ में हो रहा है। इससे पहले वायु सेना की एयरफोर्स डे की परेड का आयोजन गाजियाबाद के हिंडन एयर फोर्स स्टेशन पर ही होता रहा है।

ऐसे में आपको भारतीय वायु सेना के स्थापना दिवस से जुड़ी कुछ खास बातों को जरुर जानना चाहिए। आखिर 8 अक्टूबर को ही वायु सेना दिवस क्यों मनाया जाता है। भारतीय वायु सेना की स्थापना 1932 में हुई थी। उस वक्त देश में अंग्रेजों की हुकूमत थी। उस दौरान भारतीय वायु सेना को रॉयल इंडियन एयर फोर्स के नाम से जाना जाता था। हालांकि, जब देश आजाद हुआ तो रॉयल शब्द हटा दिया गया। जिसके बाद इसे भारतीय एयर फोर्स के नाम से जाना गया। इसलिए 8 अक्टूबर के दिन वायु सेना दिवस मनाया जाता है।

बता दें कि भारतीय एयरफोर्स दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वायुसेना है। उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में स्थित हिंडन वायु सेना स्टेशन एशिया में सबसे बड़ा है। भारतीय वायु सेना अपनी स्थापना के बाद से अब तक कई युद्धों में शामिल हो चुकी है। भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तान के खिलाफ चार बार युद्ध में हिस्सा लिया है। पहली बार वायु सेना ने 1948, उसके बाद 1965 और 1971 व 1999 में युद्ध में हिस्सा लिया। इसके अलावा, वायु सेना 1962 में चीन के सामने अपना दम दिखा चुकी है।

भारतीय वायुसेना का प्रमुख अधिकारी चीफ ऑफ एयर स्टाफ कहलाता है और इसका पद चीफ एयर मार्शल का होता है। वायुसेना का मुख्यालय दिल्ली में स्थित है। चीफ ऑफ एयर स्टाफ की सहायता के लिए एयर मार्शल तथा वाइस एयर मार्शल, या एयर कमोडोर पद के मुख्य चार स्टाफ अफसर होते हैं। ये वायुसेना की प्रमुख शाखाओं पर नियंत्रण रखते हैं।