मथुरा। पूरा देश अभी रंगों के त्योहार होली की तैयारियों में जुटा है वहीं रंगभरनी एकादशी के साथ ही राधारानी की नगरी वृन्दावन और कान्हा के जन्मस्थान मथुरा में होली की धूम मची हुयी है। जिलाधिकारी नवनीत ङ्क्षसह चहल ने बताया कि मथुरा और वृंदावन में होली का त्योहार सौहाद्रपूर्ण तरीके से मनाया जा रहा है। कहीं से किसी अप्रिय घटना का समाचार नहीं है। यातायात की सुचारू व्यवस्था के कारण आज वृन्दावन में कहीं भी रास्ता जाम नही रहा। श्रीकृष्ण जन्मस्थान में आज न केवल रावल की लठामार होली हुई बल्कि इस अवसर पर आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में चरकुला नृत्य, मयूर नृत्य समेत विभिन्न प्रकार की होली देख दर्शक आनन्द से भर गए। 

यह भी पढ़ें- भारत उठाएगा रूस-यूक्रेन युद्ध का फायदा! खरीदेगा बेहद सस्ता पेट्रोल डीजल

फ़ोटो का कोई वर्णन उपलब्ध नहीं है.

फूलों की होली ने तो वातावरण को भक्ति रस से भर दिया जब श्यामसुन्दर और राधारानी स्वयं आशीर्वाद स्वरूप ब्रजवासियों पर फूलों की वर्षा कर रहे थे। श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान के सचिव कपिल शर्मा ने बताया कि आज ब्रज में मनाई जानेवाली होली का प्रस्तुतीकरण जन्मस्थान की होली में किया गया। वातावरण इन्द्रधनुषी उस समय बन गया जब कि मशीन से की गई व्यवस्था में लगभग 40 फीट ऊंचाई से सतरंगी विशेषकर केशरिया गुलाल की वर्षा हो रही थी और रावल गांव के हुरिहार हुरिहारिनों के साथ लठामार होली खेल रहे थे। रसिया गायन हो रहा था ऐसो चटक रंग डार्यो श्याम मेरी चूनर में लग गयो दाग री। 

खड़े रहना और बाहर की फ़ोटो हो सकती है

नई फरिया और लंहगा पहने हुरिहारिने लाठियों से हुरिहारों पर इसलिए प्रहार कर रही थीं कि उनके नये कपड़े खराब हो रहे थे। वातावरण उस समय हंसी से भर जाता था जब राइफल लिये पुलिसकर्मी भाग रहा था और हुरिहारिने उस पर लाठी से प्रहार करने के लिए उसका पीछा कर रही थीं। इस क्रम में बीच बीच में हुरिहारिने दर्शकों को भी नही छोड़ रही थी। होली का समापन नन्द के लाला की जयकार से हुआ। वृन्दावन में आज रथ पर सवार होकर श्यामाश्याम ने वृन्दावन की गलियों मे जाकर ब्रजवासियों के साथ इतनी होली खेली कि वृन्दावन की गलियां रंगीन हो गईं। राधाबल्लभ मन्दिर से प्रारंभ्भ हुई रथ यात्रा रासमण्डल पर समात हुई जहां पर श्यामाश्याम की रासलीला हुई।

यह भी पढ़ें- रूस बरसा रहा बम, यूक्रेन की यह मांग कोई नहीं कर रहा पूरा; जेलेंस्की ने दुनिया से लगाई गुहार

फ़ोटो का कोई वर्णन उपलब्ध नहीं है.

वैसे तो वृन्दावन के बांकेबिहारी तथा प्राचीन सप्त देवालयों समेत सभी मन्दिरों में आज से होली शुरू हो गई किंतु बांके बिहारी मन्दिर में तीर्थयात्रियों ने आज ठाकुर से जमकर होली खेली। बांकेबिहारी मन्दिर के राजभोग सेवा अधिकारी ज्ञानेन्द्र किशोर गोस्वामी के अनुसार 17 मार्च तक दर्शन खुलने के समय ठाकुर जी अपने भक्तों के साथ होली खेलेंगे। वृन्दावन के राधारमण, राधा बल्लभ एव राधा दामोदर मन्दिर में भी आंज भक्तों की भारी संख्या ने ठाकुर संग होली खेली।