सेंसर बोर्ड एक बार फिर सख्त रुख दिखाए हुए किसी फिल्म को हरी झंडी देने से इनकार कर दिया है। दरअसल, सीबीएफसी ने अलंकृता श्रीवास्तव की फिल्म 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्का' को सर्टिफिकेट देने से इसलिए मना कर दिया क्योंकि इसमें सेक्स को लेकर महिलाओं की फैंटेसी को दिखाया गया है।

सेंसर बोर्ड ने कहा कि यह फिल्म लेडी ओरिएंटेड है, जिसमें महिलाओं की लाइफ से कहीं ज्यादा उनकी फैंटेसी के बारे में दिखाया गया है। फिल्म में सेक्सुअल सीन, गाली-गलौज वाले शब्द, ऑडियो पोर्नोग्राफी और समाज के एक तबके से जुड़े कुछ सेंसेटिव मामले भी हैं।

वैसे, यह पहला मामला नहीं है जब किसी फिल्म को विवाद का हर्जाना भुगतना पड़ रहा है। इससे पहले भी कई फिल्मों के साथ ऐसा हो चुका है।

किसी से सेंसर बोर्ड ने कोई सीन हटवाया तो किसी को कई जगह बैन का सामना करना पड़ा। हाल ही में रिलीज हुई 'जॉली एलएलबी 2' और उससे पहले 'उड़ता पंजाब 'के भी कई सीन्स को आपत्तिजनक बताते हुए सेंसर बोर्ड ने कैंची चलाई थी।