प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को भारत में आधिकारिक तौर पर 5G टेलीकॉम सर्विसेस लॉन्च कर दी है। आने वाल दिनों में आपके कई सारे काम सुपर फास्ट स्पीड से होंगे। एक रिपोर्ट के मुताबिक, 5G की पीक स्पीड यानी 20Gbps पर 3GB की मूवी एक सेकंड में डाउनलोड कर सकते हैं। कहा जा रहा है कि 5G तकनीक बेहतरीन कवरेज, हाई डेटा रेट, लो लैटेंसी और एक अत्यधिक विश्वसनीय कम्युनिकेशन सिस्टम प्रदान करेगी। 2024-25 तक भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के आर्थिक लक्ष्य को प्राप्त करने में 5G services की भी प्रमुख भूमिका निभाने की उम्मीद है। लेकिन 5G तकनीक के आने से आपके जीवन में क्या बदलाव होगा। 

5G में उपभोक्ताओं को 4G की तुलना में हाई डेटा स्पीड मिलेगी। बता दें कि 4G के 100 Mbps पीक स्पीड मिलती है लेकिन 5G की पीक इंटरनेट स्पीड 20Gbps तक है। लाइफवायर की एक रिपोर्ट के मुताबिक,  यदि आपका 5G कनेक्शन 20Gbps की गति तक पहुंच जाता है, तो वही 3GB की मूवी पलक झपकते ही, केवल एक सेकंड में डाउनलोड कर सकते हैं। (नोट-रियल वर्ल्ड में थोड़ी कम स्पीड मिल सकती है।)

यह भी पढ़े : 5G Launch : आज से 5G की स्पीड से दौड़ेगा देश , PM मोदी लॉन्च करेंगे 5 जी सर्विस

5G तकनीक 1ms जितनी कम लैटेंसी प्रदान करती है। लैटेंसी डिवाइस द्वारा डेटा के पैकेट भेजने और प्रतिक्रिया प्राप्त करने में लगने वाला समय है। लैटेंसी जितनी कम होगी, प्रतिक्रिया उतनी ही तेज होगी। 5G तकनीक देश भर के दूरदराज के क्षेत्रों में बेहतरीन कवरेज प्रदान करेगी। यह एनर्जी एफिशियंसी, स्पेक्ट्रम एफिशियंसी और नेटवर्क एफिशियंसी में सुधार करेगी। 5G देश में वर्चुअल रियलिटी (VR) और ऑगमेंटेड रियलिटी (AR) जैसे टेक्नोलॉजी में भी फायदेमंद साबित होगी। इस तकनीक का कई क्षेत्रों जैसे स्वास्थ्य सेवा, कृषि, शिक्षा, आपदा प्रबंधन और अन्य पर एंड-टू-एंड प्रभाव पड़ेगा।

5G लाइव म्यूजिक फेस्टिव और फुटबॉल मैचों जैसे खेल आयोजनों में फैन एक्सपीरियंस को बढ़ाएगा। 5G द्वारा पेश की जाने वाली लो लैटेंसी खेल प्रेमियों को इमर्सिव अनुभव प्रदान करेगी। 5G इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT) प्रौद्योगिकियों द्वारा संचालित नई सेवाओं और उत्पादों को भी सक्षम करेगा। 5G नेटवर्क द्वारा दी जाने वाली एडवांस क्षमताएं नए बिजनेस मॉडल को भी संचालित करेंगी। 5G के आने से ट्रांसपोर्ट और मोबिलिटी सेक्टर में भी बदलाव आएगा। 5G का उपयोग करके, EV इकोसिस्टम की लागत प्रभावशीलता को अधिकतम करने में मदद करने के लिए इलेक्ट्रिक वाहनों (EVs) और चार्जिंग स्टेशनों का एक नेटवर्क स्थापित किया जा सकता है।

ये भी पढ़ेंः UNSC में रूस के खिलाफ अमरीका लाया प्रस्ताव, लेकिन भारत ने लिया ऐसा फैसला, देखते रह गए बाइडन

नेक्स्ट-जेनरेशन 5G नेटवर्क रिमोट को अधिक प्रभावी ढंग से काम करने में भी मदद करेगा। 5G पावर्ड स्मार्ट बिल्डिंग कर्मचारियों के लिए अधिक कंफर्टेबल वर्किंग एनवायरनमेंट प्रदान करने में मदद कर सकते हैं, नियोक्ताओं के लिए लागत कम करने के साथ-साथ प्रोडक्टिविटी बढ़ाने में मदद कर सकते हैं। 5G तकनीक औद्योगिक क्रांति 4.0 को बढ़ावा देगी। सभी नई 5G सेवाएं विभिन्न प्रक्रियाओं के शेड्यूलिंग को ऑटोमेट करने के लिए विभिन्न IoT (इंटरनेट ऑफ थिंग्स) सेंसर और उपकरणों को जोड़ेगी। 5G से ग्राहक अपने फोन पर 4K वीडियो देख सकेंगे। यह एआर/वीआर, मोबाइल गेमिंग ऐप्स, और कई अन्य इमर्सिव एक्टिविटी और नए एप्लिकेशन के उपयोग को भी सक्षम करेगा।

नेक्स्ट-जनरेशन 5G तकनीक का भी माल के प्रोडक्शन और डिस्ट्रीब्यूशन के तरीके पर असर पड़ेगा। मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में 5G के अनुप्रयोगों में कम लागत, कम डाउन टाइम, मिनिमम वेस्टेड और प्रोडक्टिविटी में सुधार शामिल है। 5G से लॉजिस्टिक लागत वर्तमान में 13-14% से 5% तक आने की उम्मीद है। 5G का सुरक्षा और निगरानी क्षेत्र में भी बड़ा प्रभाव पड़ेगा। 5G तकनीक और इसकी एप्लिकेशन आपदा प्रभावित क्षेत्रों पर रिमोट कंट्रोल, पब्लिक प्लेस पर स्थापित HD कैमरे से लाइव 4K फीड और बहुत कुछ करने में सक्षम करेंगे। यह खतरनाक औद्योगिक कार्यों जैसे गहरी खदानों, अपतटीय गतिविधियों आदि में मनुष्यों की भूमिका को कम करने में भी मदद करेगा।