भारतीय एथलेटिक्स महासंघ (एएफआई) ने आईएएफ वर्ल्ड अंडर-20 चैंपियनशिप में महिलाओं की 400 मीटर स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने वाली हिमा दास की टूटी-फूटी अंग्रेजी का मजाक उड़ाने पर उनसे माफी मांग ली। फिनलैंड के टेम्पियर में चल रही आईएएएफ अंडर-20 विश्व चैम्पियनशिप में हिमा दास ने 51.46 सेकेंड का समय निकालते हुए 400 मीटर स्प्रिंट इवेंट का स्वर्ण अपने नाम किया।


चैंपियनशिप में महिलाओं की 400 मीटर स्पर्धा में सेमीफाइनल में हिमा की जीत के बाद भारतीय एथलेटिक्स महासंघ ने उनका एक वीडियो ट्वीट किया, 'हिमा दास स्वर्ण पदक जीतने के बाद मीडिया से बातचीत करती हुईं। अग्रेंजी में उतनी दक्षता से अंग्रेजी नहीं बोल पा रही हैं, लेकिन अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रही हैं। हमें आप पर गर्व है हिमा।'



इस ट्वीट के बाद लोग भारतीय एथलेटिक्स महासंघ को ट्रोल करने लगे। लोगों का कहना था कि हिमा दास ट्रेम्पियर में स्प्रिंट इवेंट में अपना टैलेंट दिखाने के लिए गईं हैं ना की अंग्रेजी में अपनी काबिलियत साबित करने ​के लिए। लोगों की प्रतिक्रिया के बाद एफआई (एथलेटिक्स फेडरेशन आॅफ इंडिया) ने एक दूसरे ट्वीट में अपनी सफाई दी है और माफी मांगा है।
                                 

फेडरेशन ने दोबारा ट्वीट करके लिखा,'सभी भारतवासियों से क्षमा अगर हमारी एक TWEET से आप आहत हुए है!असल उद्देश्य यह दर्शाना था कि हमारी धाविका किसी भी कठनाई से नहीं घबराती, मैदान के अंदर या बाहर! छोटे से गांव से आने के बावजूद, विदेश में अंग्रेजी पत्रकार से बेझिझक बात की! एक बार फिर उनसे क्षमा जो नाराज हैं, जय हिन्द!


बता दें कि एएफआई द्वारा हिमा की अंग्रेजी पर की गई टिप्पणी को लेकर छिड़ी बहस में आम आदमी पार्टी के नेता और कवि कुमार विश्वास भी कूद पड़े। इंटरनेट पर भारतीय एथलेटिक्स महासंघ को हिमा को बधाई देने के लिए किए गए ​ट्वीट में एक चूक के कारण ट्रोल होना पड़ा। लोगों ने कहा कि इस ट्वीट में ने हिमा की अंग्रेजी का मजाक उड़ाया है। इसी बात पर कुमार विश्वास भी फेडरेशन से नाराज दिखे और उन्होंने ट्वीट के जरिए खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ को इसकी शिकायत की।