दुनिया में सात अजूबे हैं। इन सात अजूबों में "द ग्रेट वॅाल ऑफ चाइना" भी शामिल है। यह दीवार विश्व की सबसे लंबी दीवार है। इस दीवार का निर्माण चीनी शासकों ने चीन को बाहरी हमलों से सुरक्षित रखने के लिए बनाया था। इस दीवार का इतिहास काफी पुराना है। 

"द ग्रेट वॅाल ऑफ चाइना" को लगभग 2300 साल से भी अधिक पुराना माना जाता है। इतिहासकारों के अनुसार इस दीवार का निर्माण चीनी सम्राट शी हुअंगा की कल्पना के बाद किया गया था। "द ग्रेट वॅाल ऑफ चाइना" को बनाने में 5 वीं शताब्दी ईसा पूर्व से लेकर 16 वीं शताब्दी तक का समय लगा था। "द ग्रेट वॅाल ऑफ चाइना" इंसानों द्वारा बनाई गई सबसे बड़ी और लंबी संरचना है। इस दीवार की लंबाई 6400 किमी. से भी अधिक है। इस दीवार की चौड़ाई भी काफी अधिक है।

"द ग्रेट वॅाल ऑफ चाइना" को 1970 में आम जनता और पर्यटकों के लिए खोल दिया गया था। यहां पर हर साल हजारों सैलानी इस दीवार को देखने आते हैं। ऐसा कहा जाता है कि इस दीवार को बनाने में तकरीबन 20 लाख से अधिक मजदूरों का योगदान रहा है।

"द ग्रेट वॅाल ऑफ चाइना" को देश की सुरक्षा के लिए बनाया गया था। साल 1211 में मंगोल शासक चंगेज खान ने इस दीवार को तोड़ कर चीन पर हमला कर दिया था। इस दीवार को तोड़ने में मंगोलियों को काफी समय लगा था। आपको बता दें चीन में इस दीवार को 'वान ली चैंग चेंग' के नाम से जाना जाता है।

"द ग्रेट वॅाल ऑफ चाइना" को यूनेस्को ने वर्ष 1887 में विश्व धरहोर में शामिल किया। ऐसा कहा जाता है कि इस दीवार के पत्थरों को जोड़ने के लिए चावल के आटे का उपयोग किया गया था और इस दीवार का निर्माण एक साथ नहीं हुआ था। इस दीवार को छोटे- छोटे हिस्सों में बनाया गया था।