महाराष्ट्र भारत का एक महत्वपूर्ण राज्य है, जो ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और प्राकृतिक रूप से काफी समृद्ध माना जाता है। मुंबई और पुणे जैसे शहरों के कारण इसकी गिनती देश के सबसे धनी राज्यों में होती है। पर्यटन के मामले में महाराष्ट्र काफी ज्यादा महत्व रखता है। आप यहां हिल स्टेशन, नदी, झील, पहाड़ी घाटियां, किले-महल, प्राचीन मंदिर आदि देख सकते हैं। 

यह राज्य अतीत से जुड़ी संरचनाओं को देखने के लिए एक आदर्श स्थल है। यहां बहुत से प्राचीन किले मौजूद हैं, जिनमें से कई सुरक्षित और कई मात्र खंडहर रूप मौजूद हैं। इतिहास में दिलचस्पी रखने वालों के लिए यह राज्य किसी जन्नत से कम नहीं। इस लेख में आज हम आपको राज्य के पुणे जिले स्थित कोरीगढ़ किले के बारे में बताने जा रहे हैं, जानिए यह प्राचीन किला आपको किस प्रकार आनंदित कर सकता है। जानिए आपके लिए क्यों खास है महाराष्ट्र का कोरीगढ़ किला।

कोरीगढ़ महाराष्ट्र के पुणे जिले स्थित एक प्राचीन किला है, जो लोनावला हिल स्टेशन से मात्र 25 किमी की दूरी पर स्थित है। जानकारी के अनुसार इसे किले का निर्माण 16वीं शताब्दी के आसपास किया गया था। हालांकि इसके निर्माण की सटीक जानकारी उपलब्ध नहीं है। चूंकि यह किला पहाड़ी पर बना है, इसलिए यह ऐतिहासिक और प्राकृतिक रूप से भी काफी ज्यादा महत्व रखता है। समुद्र तल से यह किला 3028 फीट की ऊंचाई पर बसा है और भारत के सबसे ऊंचे किलों में गिना जाता है। यह अपनी खास भौगोलिक स्थित के लिए भी प्रसिद्ध है, जहां वीकेंड पर ट्रेकर्स और हाइकर्स भी आपको दिख जाएंगे। माना जाता है कि यह किला कई शक्तिशाली सम्राटों के अधीन रह चुका है। यह किला आगे चलकर मराठा साम्राज्य का हिस्सा बना, जब छत्रपति शिवाजी से इसे अपने अधीन किया। वर्तमान में यह पहाड़ी स्थल मुंबई और पुणे वासियों का पसंदीदा वीकेंड गेटवे है। कोरीगढ़ वर्षभर घूमने लायक स्थल है, यहां का मौसम सालभर खुशनुमा बना रहता है, इसलिए आप यहां किसी भी समय आ सकते हैं। लेकिन अगर आप मॉनसून के दौरान यहां का प्लान बना रहे हैं, तो अपनी सुरक्षा का ध्यान जरूर रखें, क्योंकि वर्षा के कारण यहां के ट्रेकिंग ट्रेल्स काफी फिसलन भरे हो जाते हैं। वैसे यहां आने का सबसे आदर्श समय सितंबर से लेकर मार्च का है, इस दौरान यहां का प्राकृतिक नजारा देखने लायक होता है।

 कोरीगढ़ की यात्रा आपके लिए कई मायनों में खास हो सकती है। एक प्रकृति प्रेमी से लेकर इतिहास में दिलचस्पी रखने वालों के लिए यह पहाड़ी स्थल काफी ज्यादा महत्व रखता है। यहां का माहौल बेहद शांत है, जहां आप अपार मानसिक और आत्मिक शांति का अनुभव कर सकेंगे। आध्यात्मिक चिंतन के लिए यह एक आदर्श स्थल है। अगर आप एडवेंचर का शौक रखते हैंए तो यहां आकर ट्रेकिंग और हाइकिंग का रोमांच भरा अनुभव ले सकते हैं। इतिहास प्रेमी किले का भ्रमण कर सकते हैं। अगर आप फोटोग्राफी का शौक रखते हैं, तो यहां के शानदार दृश्यों को अपने कैमरे में कैद कर सकते हैं। इसके अलावा आप यहां आसपास पैराग्लाइडिंग और कैंपिग करने के लिए भी कई स्थल मिल जाएंगे। आप यहां पहाड़ी पर स्थित कोराडी देवी मंदिर के दर्शन का सौभाग्य भी प्राप्त कर सकते हैं। आप चाहें तो कोरीगढ़ किले के भ्रमण के साथ आसपास की शानदार जगहों की सैर का आनंद भी ले सकते हैं।