अगर आप कोरोना के मामलों में कमी आने के बाद कहीं पर घूमने का प्लान बना रहे हैं तो ये खबर आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकती है. आपकी जानकारी के लिए बता दें इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कारपोरेशन यानी आईआरसीटीसी (IRCTC) की तरफ से 'भारत गौरव' टूरिस्ट ट्रेन शुरू की जा रही है. इस ट्रेन से भगवान श्री राम के भक्तों को रामायण सर्किट पर अयोध्या, जनकपुर (नेपाल), सीतामढ़ी, वाराणसी, नासिक और रामेश्वरम की सैर करने का अवसर मिलेगा.

यह भी पढ़े : Horoscope Today May 27: इन राशि वालों पर आज होगी मां लक्ष्मी की कृपा , धन मिलने की संभावना, ये राशि वाले बिजनेस में रहें सतर्क


भारतीय रेलवे (Indian Railways) की तरफ से दी गई जानकारी के अनुसार, यात्रा में 8 हजार किलोमीटर लंबे सर्किट पर यात्रा करने में 18 दिन का समय लगेगा. ये सफर दिल्ली से शुरू होगा. बुकिंग को सुविधाजनक बनाने के लिए रेलवे की तरफ से ईएमआई ऑप्शन की पेशकश की गई है. इस ईएमआई ऑप्शन के तहत आप किस्तों में टूर के लिए बुकिंग कर सकते हैं.

यह भी पढ़े : शनि का कुंभ राशि में प्रवेश : इन राशियों पर एक बार फिर शुरू होगा शनि का अशुभ प्रभाव, शनि जयंती पर करें ये उपाय


भारतीय रेलवे की तरफ से बताया गया कि श्री रामायण यात्रा के लिए एक व्यक्ति को 62,370 रुपये का भुगतान करना पड़ेगा. इसमें लोगों को 3AC टियर चार्ज, होटल में ठहरना, भोजन, लोकल बसों के जरिए दर्शन, ट्रैवल इंश्योरेंस और गाइड की सुविधा भी मिलेगी.

यात्रियों को ईएमआई ऑप्शन की सुविधा देने के लिए आईआरसीटीसी की तरफ से पेटीएम और रेजरपे पेमेंट गेटवे के साथ करार किया गया है. बता दें कि ट्रेन में सामान रखने के लिए 2 अतिरिक्त डिब्बे होंगे. इसके अलावा शाकाहारी भोजन के लिए पेंट्री कार अलग से होगी. हर कोच में एक इन्फोटेनमेंट सिस्टम, सीसीटीवी कैमरे और सुरक्षा गार्ड भी होंगे.

यह भी पढ़े : ज्येष्ठ माह के उपाय : इस महीने कर ले ये छोटा सा उपाय , पूरे साल मिलेगा शुभ परिणाम


आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पहली भारत गौरव यात्रा ट्रेन सेवा 21 जून 2022 से शुरू होगी. ट्रेन में 600 यात्रियों की क्षमता वाले 11 3एसी टियर कोच होंगे. ट्रेन पहले अयोध्या स्टेशन पर रुकेगी. यहां राम जन्मभूमि मंदिर, हनुमान मंदिर, नंदीग्राम में भारत मंदिर जाएंगे. इसके बाद अगला पड़ाव बक्सर होगा. यहां पर महर्षि विश्वामित्र और राम रेखा घाट का आश्रम दिखाया जाएगा.

यह भी पढ़े : प्रदोष व्रत : शनि के अशुभ प्रभावों से छुटकारा पाने के लिए प्रदोष व्रत के दिन करें इस विधि से पूजा, प्रदोष व्रत के नियम


इसके बाद ट्रेन जनकपुर जाएगी. यहां यात्रियों को राम-जानकी मंदिर ले जाया जाएगा. साथ ही उन्हें सीता के जन्म स्थान सीतामढ़ी भी ले जाया जाएगा. उसके बाद ट्रेन वाराणसी आएगी और यहां पर्यटकों को बनारस के मंदिर में घुमाया जाएगा. वाराणसी, प्रयागराज और चित्रकूट में नाइट स्टे होगा. इसके अलावा भी यात्रियों को कई जगहों पर घुमाया जाएगा. आप अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आईआरसीटीसी की आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं.