हिमाचल प्रदेश में अप्रैल महीने में भी बर्फबारी का दौर जारी है। लाहौल से लेकर किन्नौर तक पहाड़ बर्फ से लकदक हो गए हैं। बुधवार रात को सूबे के मैदानी इलाकों में झमाझम बारिश हुई है। वहीं, ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फ गिरी है। लाहौल में एक बार फिर से बर्फबारी हुई है। लाहौल स्पीति पुलिस के अनुसार, सिस्सु में बुधवार सुबह भी बर्फ गिरी है। मौसम विभाग की ओर से बुधवार के लिए भी येलो अलर्ट जारी किया गया है।

लाहौल स्पीति के काजा, कोकसर में बर्फबारी हो रही थी। लाहौल के दारचा में एक फीट, काजा और लोसर में एक फीट बर्फ गिरी है। घाटी में लगातार दूसरे दिन से मौसम खराब बना हुआ है। वहीं, आंधी चलने से बिलासपुर जिले के जुखाला में कई जगह पेड़ गिरने की भी सूचनाएं हैं। सूबे में बारिश और बर्फबारी से किसान बागवान खुश हैं। जिला किन्नौर की ऊंचाई वाले इलाकों में हिमपात हुआ है। तापमान में भी काफी गिरावट दर्ज की जा रही है।

जिला किन्नौर में हो रही बारिश व ऊँचाई वाले क्षेत्रों में हो रही बर्फबारी से जिले के किसानों व बागवानों के चेहरे खिल गए हैं, क्योंकि यह बारिश किसानों और बागवानों के लिए अमृत का काम करेगी। सेब के लिए बर्फबारी का होना काफी अहम रहता है।लाहौल में बर्फबारी के चलते सैलानियों के लिए अटल टनल को बंद कर दिया गया। वहीं, बर्फबारी के चलते लेह मनाली हाईवे पर ट्रैफिक भी बाधित हुआ है।